पहले दक्षिणा तब प्रसाद

0
56

भोजपुर/आरा (ब्यूरो) – आरा मे स्थित मां आरण्य देवी का मंदिर काफी प्रसिद है इनके मंदिर मे जो भक्त पूजा एवं प्रसाद चढाने के लिए जाता तो बिना दक्षिणा का प्रसाद पुजारी वापस नही करते जबकि भगवान के मंदिर मे इच्छानुसार दक्षिणा दिया जाता है।सुबह जब देखा तो मंदिर मे काफी भीड देखने को मिला। रक्षाबंधन के त्योहार के चलते महिलाओं की काफी भीड थी मंदिर में भीड़ कम होने वाली नहीं थी क्योंकि पुजारी ने दक्षिणा लेने के चलते भीड़ लगा रखी थी जो महिलाएं दक्षिणा नहीं देती उनकी प्रसाद को रोक कर रखा जाता है वहीं भक्तों का पूजा के प्रति मनोबल टूट जाता है।

भक्त मजबूर हो जाते है जो कि पूजारी इच्छा जाहिर करता है कि मुझे इतना दक्षिणा चाहिए और मजबूरन भक्तों को देना पडता है। हमारे देश मे मंदिर भी नहीं बचा है जहाँ लोग पूजा और मनते मांगने जाते है। जब किसी की दिन दशा और मन अशांत होता है तो भगवान के शरण मे मंदिर की ओर जाते है ताकि मन शांत हो लेकिन यहाँ तो कुछ अलग तरह को देखने को मिलता है लोग यह समझते है कि मंदिर मे जाएंगे तो पूजारी को प्रसाद चढाने का दक्षिणा यानी पूजारी का फीस देना पडेगा।

रिपोर्टर – रामा शंकर प्रसाद

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY