तालाब की मछलियों की मौतों का सिलसिला है जारी

0
76

रायबरेली/लालगंज (ब्यूरो) लालगंज के ग्राम बाल्हेमऊ मजरे ऐहार स्थित सुप्रसिद्ध बाल्हेश्वर मंदिर परिसर के तालाब में मछलियां का मरना जारी है। विभागीय अधिकारी पानी में आक्सीजन की कमी के चलते मछलियों के मरने की बात कहकर रहे हैं। अफसर आक्सीजन बढ़ाने के तरीके तो बता रहे हैं, लेकिन इसके लिए खुद कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि उक्त मंदिर परिसर से सटा विशाल पुख्ता तालाब है। जिसमें पिछले कुछ दिनों से मछलियों के मरने का क्रम जारी है। इसको लेकर पानी में लगभग पांच क्विंटल चूना डलवाया जा चुका है। बुधवार को अचानक भारी संख्या में मछलियां मरकर पानी में उतराती नजर आई तो तालाब की देखरेख करने वाले ऐहार निवासी किशन के परिजन वहां पहुंचे |

बताते चलें कि उक्त तालाब में प्रतिवर्ष भारी संख्या में मछलियां मरती हैं, फिर भी पहले से कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं की जाती और न कभी ध्यान ही दिया जाता है, इस घटना से पशु प्रेमियों मे रोष व्याप्त है |

इन मछलियों की है भरमार
तालाब की देखरेख करने वाली सावित्री देवी ने बताया कि तालाब में चाइना, रोहू, बउस, ब्रिगेड, मांगुर, पढ़ना, नैन आदि प्रजाति की 40 हजार से अधिक मछलियां हैं। सावित्री की मानें तो कुछ दिन पहले ही उन्नाव से लाकर चार हजार मछली के बच्चे तालाब में डाले गए थे।

रिपोर्ट – अनुज मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY