चार महीने बाद सेल्समैन हत्याकांड में पुलिस खाली हाथ

0
70

नगरा/ बलिया। थाना क्षेत्र के ताड़ीबड़ा गांव में सेल्समैन हत्या कांड में पुलिस के हाथ अपराधियो के गर्दन तक चार माह बाद भी नही पहुँच पाए।जिससे पुलिस की सक्रियता पर क्षेत्र के लोग सवाल खड़ा करना शुरू कर दिए है।इस घटना का राजफाश न होने से पुलिस की किरकरी हो रही है।क्षेत्र के लोगो की नवागत पुलिस अधीक्षक के तरफ निगाहे टिकी हुई है।

ताड़ीबड़ा गांव स्थित गांव में पूर्व मंत्री घुराराम का अनुराग गैस एजेंसी है।13 सितम्बर 2018 को गैस एजेंसी का सेल्समैन नंदकिशोर गैस का वितरण कर रहा था।तभी बाइक सवार दो बदमाश सेल्समैन के पास पहुँचे और सेल्समैन को गोली मारकर हत्या करने के बाद विक्री का बैग लेकर फरार हो गए।दिन दहाड़े इस घटना ने क्षेत्र में सनसनी फैला दी।घटना से आक्रोशित ग्रामीण घटना के दूसरे दिन सेल्समैन के शव के साथ सड़क पर उतर आए।रोड जाम की जानकारी होते ही पुलिस जाम स्थल पर पहुँची।हत्या व लूट की खुलासा के आश्वासन पर ग्रामीणों ने चार घण्टे बाद जाम समाप्त कर दिया था किन्तु चार माह बाद भी पुलिस अपराधियो तक नही पहुँच पाई है।जिससे पुलिस की सक्रियता पर क्षेत्र में तरह तरह की अटकलों का बाजार गर्म है।क्षेत्रीय जनो का मानना है कि पुलिस हत्या एवं लूट की घटना को ठंडे बस्ते में डाल दी है।अब लोगो की निगाहें नए पुलिस अधीक्षक के ऊपर लगी हुई है।नए पुलिस अधीक्षक जघन्य हत्या कांड का खुलासा में तत्परता दिखाएंगे या पूर्व की भांति मामले के खुलासे को ठंडे बस्ते में रहने देंगे।ताड़ीबड़ा गांव के पूर्व प्रधान प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि सेल्समैन हत्या कांड का खुलासा न होने से पुलिस की सक्रियता पर अंगुली उठ रही है।पूर्व पुलिस अधीक्षक द्वारा घटना को गम्भीरता से नही लिया गया जिससे पुलिस की दक्षता पर सवाल खड़े होने लगे।नवागत पुलिस अधीक्षक से इस घटना की खुलासे के प्रति लोगो मे उम्मीद जगी है।देखना है कि इस घटना की खुलासा पुलिस कब तक करती है।

रिपोर्ट दिग्विजय सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here