तहसील प्रशासन का काला कारनामा उजागर हुआ

0
137

चकलवंशी/उन्नाव (ब्यूरो) तहसील के आलाधिकारियों का काला कारनामा उजागर हुआ है दिवस में कोटेदार के खिलाफ राशन वितरण व घटतौली तथा राशन माफिया के संबंधित लिखित शिकायत की गई जिसमें मौजूद जिलाधिकारी, एसपी,सीडीओ व अन्य अधिकारी उपस्थित हुए उसके बाद भी जांच में बगैर गांव जाकर पूर्ति निरीक्षक ने निस्तारण कर दिया गया इसी तरह जिलाधिकारी की जांच में एसडीएम ने बगैर जांच कराकर आख्या लगा दी गयी राशन पीङितों ने आरोप लगाया कि चढौका में बङा दम होता है जिस तरह की आख्या चाहो लगवा लो यह तो जनपद में आम बात है।

हसनगंज के विकास खंड मियांगंज क्षेत्र ग्राम पंचायत मवई बृम्हनान कोटेदार मौला बक्स के खिलाफ राशन वितरण व घटतौली तथा निर्धारित मूल्य से अधिक संबंध में तहसील दिवस के अवसर पर शिकायत संख्या-30081577000581 दिनांक-06/06/2017 को राशन कार्ड धारकों ने की।निस्तारण आख्या में जांच अधिकारी संजीव मिश्र पूर्ति निरीक्षक हसनगंज रहे शिकायत कर्ता राम प्रकाश,लाला, अनिल,कमल प्रसाद, धीरेन्द्र कुमार, मोहित है जांच दिनांक 10/06/2017 को बगैर ग्राम पंचायत जाकर रिपोर्ट उपजिलाधिकारी मनीष बंसल को प्रेषित की गई | उपर्युक्त तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र की जांच में उक्त सम्बन्ध में अवगत कराना है कि उचित दर विक्रेता मौला बक्स द्वारा लिखित बयान दिया गया है कि राम प्रकाश के नाम से कोई कार्ड नहीं है जबकि अन्नपूर्णा पति राम प्रकाश के नाम से अंत्योदय कार्ड जारी हुआ है तथा लाला, अनिल, कमल प्रसाद द्वारा लिखित बयान दर्ज कराया गया है कि उन्हें मौला बक्स उचित दर विक्रेता के विरुद्ध कोई शिकायत नहीं है | पूर्ति अधिकारी जांच करने के लिए ग्राम पंचायत नहीं पहुंचे राशन कार्ड धारकों का आरोप है कि तहसील स्तर के अधिकारी गांव पहुंचे नहीं शिकायत का निस्तारण हो गया और यह भी कहा कि अधिकारियों ने कोटेदार व राशन माफियाओं को हसनगंज आफिस बुला कर धन की उगाही करके शिकायत का निस्तारण कर दिया, अधिकारियों की जांच होनी चाहिए |

इसी तरह पीङितों ने जिलाधिकारी अदिति सिंह से 31/05/2017 को लिखित शिकायत की गई थी उसके बाद जिलाधिकारी ने एसडीएम मनीष बंसल को जांच करने के लिए प्रेषित की गयी उसके बाद उपजिलाधिकारी ने रिपोर्ट लगायी है कि पीङितों द्वारा कोई शिकायत नहीं है इस संबंध में राशन कार्ड धारकों में लाला से जानकारी की गयी तो बताया कि गांव कोई अधिकारी आया नहीं है जांच कैसे हो गयी दिनेश का बयान कोटेदार को आफिस बुलाया गया होगा उसके बाद अधिकारियों ने जांच के नाम पर रुपयों की वसूली हुई जांच का निस्तारण हो गया अब हम जिला अधिकारी के पास जायेंगे हमें राशन नहीं दिया जाता है राम प्रकाश का कहना है कि उन्होंने रिपोर्ट में कहा है हमारा कार्ड नहीं है यदि हमारे पत्नी के नाम अंत्योदय कार्ड है हम शिकायत नहीं करेंगे तो कौन करेगा।इस संबंध में उपजिलाधिकारी मनीष बंसल से जानकारी के लिए फोन किया गया तो फोन रिसीव नहीं हुआ जनपद के आलाधिकारियों का काला कारनामा उजागर हुआ है ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि पूर्व सरकार की तरह योगी सरकार में जांच के नाम पर अवैध रूप से धन की उगाही की जा रही है गरीब राशन कार्ड धारकों को दर-दर भटकना पड़ रहा है।पीङितों ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी जी से जांच कराकर कार्यवाही की मांग की है।

रिपोर्ट – जितेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here