ससुरालियों व पुलिस की प्रताड़ना से दिलाई जाये मुक्ति

0
108

कानपुर नगर : शादी होने के बाद ससुर की हरकतो और पति द्वारा ससुर का साथ दिये जाने पर एक पीडिता ने अपनी बच्ची के साथ ससुराल छोड दिया और अपने पिता के घर रहने लगी। जीवन चलाने के लिए भाई की मदद से उसने दिल्ली में नौकरी कर ली। समय गुजरने के साथ पति के माफी मांगने पर पीडिता ने पति को भी दिल्ली बुला लिया, लेकिन कुछ समय बाद महिला को पता चला कि उसके पति के स्वभाव में कोई परिवर्तन नही हुआ और एक बार फिर वह अपने पति से अलग हो गयी लेकिन पति और ससुरालियों ने पीडिता को परेशान करना बंद नही किया और पुलिस से सांठ-गांठकर मायके वालों को परेशान करने लगे।

पीडिता प्रतिमा बाजपेई निवासिनी 127/190 जूही, हमीरपुर रोड ने बताया कि उसकी शादी मंयक बाजपेई से हुई थी। बताया कि शादी के बाद उसके ससुर चंद्रिका प्रसाद बाजपेई उससे अशोभनीय हरकत करते थे। पति को बताने पर भी उसने कुछ नही कहा। वहीं पुत्री के जन्म के बाद प्रताडना और बढ गयी। जब इसकी खबर पीडिता के पिता को हुई तो वह उसे मायके ले गये ओर पीडिता वहीं रहने लगी। बताया कि भाईयों की मदद से उसे दिल्ली में नौकरी मिल गयी। यह पता चलते ही पति माफी मांगकर उसके पास रहने को कहा, जिसपर वह तैयार हो गयी लेकिन पति की आदतों में सुधार न होने के कारण उसने पति से अलग रहने का फैसला लिया। अब दुष्ट पति मयंक, ससुर चंद्रिका पीडिता के माता-पिता व बडी बहन को परेशन कर रहे है और पीडिता पर ही चरित्रहीन होने का आरोप लगाकर कानूनी कार्यवाही में फंसाने की धमकी दे रहे है। वहीं पुलिस चौकी में बुलाकर पीडिता के भाई व बहनोई के साथ गाली-गलौकी जा रही रही है। ससुर चन्द्रिका प्रसाद परिवार परामर्श केन्द्र में काउंसिलर के पद पर होने के कारण अपने रूतबे का फायदा उठा रहे है वहीं गिरफ्तारी का दबाव डाला जा रहा है। कहा कि स्थिति ऐसे है कि पीडित परिवार के सामने को रास्ता नजर नही आ रहा है और आत्महत्या के अलावा पीडिता को अन्य विकल्प नही दिख रहा है। कहा कि किसी प्रकार पीडिता व उसके परिवार की सुनी जाये, उन्हे न्याय दिलाया जाये और ससुरालियों एवं पुलिस की प्रताडना से मुक्ति दिलाई जाये।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY