गांवो मे चल रहा धडल्ले से दारु का गोरखधंधा

0
74

कबरई, महोबा(ब्यूरो)-  कबरई कस्बे के ग्राम उटिंया गांव मे घडल्ले से बिक रही जहरीली दारु। लोगो को दिया जा रहा मिलावटी जहर। प्राप्त जानकारी के अनुसार उस गांव मे दारु का किसी के पास ठेका भी नहीं है इसके बावजूद भी चल रहा गोरखधन्धा जिससे लोगो को बीमारी व अजीब नशा हो जाता है |

जिसे लोग पीकर अराजकता फैलाते है तथा कुछ बेवडे लोग तो ऐसे है की दारु पीकर घर जाकर नशे मे बीवी व बच्चो पर कहर ढाते है लेकिन वो बेचारी क्या करे जब बिना ठेका होने के बावजूद भी लोग अपने ही घर से यह जहर फैला रहे है साथ ही दारु बेचते है जिसका खेमियाजा मां बेटी व शामिल परिवार को झेलना पडता है।

सोचने वाली बात यह है की गांव का मेन मुखिया प्रधान होता है लेकिन उसे भी इस घटना की जानकारी नहीं है या फिर कह सकते है की उसकी खुद की सह यह घिनौना कार्य हो रहा हो। वरना मजाल है की कोई भी बिना मुखिया के उस जगह गोरखधन्धा हो सके।

हमे अजीबोगरीब ऐसी वारदाते देखने को मिली की हमारे रोगंटे खडे हो गऐ एक घर मे देखा तो एक शराबी पति ने नशे मे अपनी पत्नी को बुरी तरह पीटा इसके अलावा एक ऐसे व्यक्ति विषेस से भेट हुई की हमने जब दारु बन्द के बारे मे कहा तो वह खुद ही दारु की बात न सुन, दूसरे अवैध कार्य को रोकने की बात करने लगा|

अजीबोगरीब लोग है उस गांव के भईया

हम आपको उसी उटिंया गांव की कुछ फिक्चर भेज रहे है देखकर समझ जाऐंगे की हमारे देश के लोग व देश कहां जा रहा है और दारु से कितनी तरक्क़ी कर रहा है।

रिपोर्ट-प्रदीप मिश्रा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY