अपराधियों पर सख्ती के आदेश पर गंगाघाट पुलिस हो रही मालामाल

0
51

शुक्लागंज/उन्नाव(ब्यूरो)- उत्तर प्रदेश में जब भाजपा की सरकार बनी तथा योगी आदित्यनाथ ने जैसे ही सूबे के मुखिया के रूप में शपथ ली तो सबसे पहला सपना उनका यह था कि उत्तर प्रदेश एक उत्तम प्रदेश बने और प्रदेश से गुंडाराज समाप्त हो ताकि प्रदेश की जनता भयमुक्त हो । योगी आदित्यनाथ का यह बयान सुन लोगों में एक खुशी की लहर दौड़ पड़ी तथा अपराधियों के माथो पर चिन्ता की सिलवटें पड़ने लगीं । परन्तु पुलिस प्रशासन के पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान उन्हीं की सेना ने कमाई व अपराधियों के साथ गठजोड़ वाली परंपराओं के चलते सूबे में अपराधियों के हौसले बुलन्द होने लगे तथा जिस कारण सूबे की कानून व्यवस्था ध्वस्त होती चली गई और अपराध भी बढ़ता चला गया । जिससे योगी शासन पर उंगलियां उठने लगीं ।

प्रदेश में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को देख मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों के पेंच कस शातिर अपराधियों की धरपकड़ कर सलाखों के पीछे भेजने का एक कड़ा फरमान जारी कर दिया । जिसके बाद पुलिस ने शातिर अपराधियों व वांछितों के खिलाफ धरपकड़ का अभियान चलाना शुरू कर दिया । जिसका खामियाजा इन दिनों कुछ ऐसे लोगों को भी भुगतना पड़ रहा है जो छोटे मोटे मुकदमों में किसी कारणवश न्यायालय में अपनी तारीखों पर नहीं पहुंच पाते हैं , जिस कारण उनका वारंट न्यायालय में पेशी के दौरान हाजिर होने के लिए जारी हो जाता है और वारंट लाने वाला पुलिसकर्मी वारंटी से पैसा ऐंठने के चक्कर मे कभी कभी वारंटी से उसके वारंट को छुपा लेता है , जिस कारण मुकदमें में अभियुक्त को सूचना नहीं मिल पाती और वह बेफिक्र हो अपने घर में बना रहता है । ऐसे लोगों पर भी पुलिस अपना कहर बरपा कर उनको एक शातिर अपराधियों की तरह थाने में पकड़ कर ला रही है और अगर सौदेबाजी ठीक से हो गई तो पुलिस उसको कोर्ट में तुरन्त हाजिर होने की बात बोल थाने से ही छोड़ भी देती है । और संगीन मामलों में शामिल शातिर अपराधी पुलिस का मजबूत खुफियातंत्र होने के बावजूद पुलिस कर्मियों व जिम्मेदारों के साथ गठजोड़ व पैसों के बल पर खुलेआम घूमते नजर आ रहे हैं । जिस कारण इन दिनों सख्ती के हवाला दे सिर्फ पुलिस की कमाई के रास्ते खुलते चले जा रहे हैं और इस दौरान पुलिस खूब मालामाल भी हो रही है ।

आपको बता दें कि कुछ ऐसे ही किस्से व शातिर व वांछित अपराधियों के पुलिस की पकड़ से दूर बने रहने वाले नजारे नगर गंगाघाट में देखने व सुनने में आ रहे हैं । आपको बता दें कि इन दिनों गंगाघाट कोतवाली प्रभारी ने शातिर अपराधियों व न्यायालय से जारी वारंटियों के खिलाफ एक अभियान चला रखा है । इस दौरान गंगाघाट कोतवाली पुलिस अपने मजबूत खुफियातंत्र के सहारे कुछ सही गुडवर्को को छोड़ छोटे मोटे अपराधियों को पकड़ने के साथ ही न्यायालय द्वारा आदेशित वारंटियों के खिलाफ अपने कोतवाली क्षेत्र के वारंटियों को पकड़ने के लिए आधी रात के बाद सिर्फ उन वारंटियों के घरों में सीढ़ी लगा कर उनको घर से पकड़ कर थाने ले जा कर न्यायालय के समक्ष पेश करने का भी अभियान बहुत तेजी से चला रही है ।

इस दौरान उन वारंटियों के घरों में सीढ़ी लगाने के अनोखे ढंग मानवाधिकार के नियमों का खुलेआम उल्लंघन कर रहे हैं । और उनके इस अभियान के दौरान अगर वारंटी उनके हांथ नहीं लगा तो समझ लीजिए फिर उसके स्थान पर उसके किसी सगे संबंधी को पुलिस अपने साथ ले जरूर जाएगी और उसके बाद थाने में ही छोड़ने के एवज में सौदेबाजी भी शुरू हो जाने लगी है । अब बेचारा अपने वारंट से अनभिज्ञ वारंटी किसी न किसी जतन से अपने उस सगे संबंधी को छुड़ाने के लिए रुपये खर्च करना ही पड़ता है और वहीँ जो नगर में संगीन धाराओं में लिप्त व अवैध व्यापारों को चलाने वाले शातिर अपराधी पुलिस के साथ सांठगांठ व पैसों के दम पर नगर में खुलेआम घूम रहे हैं और मारपीट जैसी मामूली धाराओं में फंसे लोग व पुलिसिया दांवपेंच से अनभिज्ञ सीधे साधे लोग पुलिस की सख्ती के शिकार हो रहे हैं और शातिर व कुख्यात अपराधी पुलिस की पकड़ से अभी भी दूर रहने की वजह कोई भी बड़ा प्रशासनिक अधिकारी अपने मातहतों से पूंछने की जहमत तक नहीं उठा रहा । जिस कारण उन्ही नगर में अभी भी गंगाघाट कोतवाली के कुछ पुलिसकर्मियों के संरक्षण में अपने काले अवैध धन्धे बेखौफ हो कर संचालित कर सबकी जेबें गरम कर रहे है तो । जिस कारण नगर में अपराधियों के दिलों में अभी भी योगी आदित्यनाथ की मंशाओं का कोई खौफ नहि है ।

रिपोर्ट- शैलेन्द्र द्विवेदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here