गैंगेस्टर सम्पादक व एल आई सी प्लाटिंग के सर्वेसर्वा का शिकार पहुंचा थाने

0
92


वाराणसी ब्यूरो : नगर के अन्ध्रापुल स्थित श्री राम काम्प्लेक्स से संचालित होने वाले फ़ास्ट न्यूज़ इंडिया नामक समाचार पत्र का तथाकथित प्रधान सम्पादक व एलआईसी प्लाटिंग का संचालक प्रभाकर द्विवेदी का एक और शिकार जिसे तथाकथित सम्पादक ने लगाया है 1,30,000/- रूपये का चूना, वो आज नगर के सिगरा थाने पहुंचा, जहाँ उसने थाना प्रभारी गोपालजी गुप्ता से न्याय दिलाने गुहार की लगायी। जिस पर थाना प्रभारी ने पीड़ित को न्याय दिलाने का पूरा भरोसा दिया।

बताया जाता है कि थाना कोतवाली अंतर्गत राजमंदिर निवासी केदार यादव जो पेशे से गरीब मजदूर है को तथाकथित फर्म के संचालक प्रभाकर द्विवेदी के द्वारा धन दुगना करके देने का लालच देकर 1 30,000 रूपये अपने फर्जी फर्म में 8 साल के लिए जमा करा लिया गया ये कहते हुए कि 8 साल के बाद इसके एवज में 2,60,000/- रूपये दिया जायेगा। जिसकी रसीद भी उसे दी गई, परन्तु 8 साल पूर्ण होने के बाद जब पीड़ित के द्वारा अपना पैसा मांगने के लिए उसके कार्यालय गया तो वहां मौजूद प्रभाकर द्विवेदी व एक अधेड़ कर्मचारी (जिसकी शिनाख्त पीड़ित कर सकता है) के द्वारा उसके साथ मारपीट भी की गई तथा उसे वहां से भगा दिया गया।

सूत्रों के अनुसार आज पीड़ित केदार के द्वारा थाना प्रभारी सिगरा के समक्ष उपस्थित होकर प्रार्थना पत्र दिया और बताया कि उसकी पत्नी भानु जो विकलांग थी, जिसे कैंसर की बीमारी हो गई थी जिसका पैसे के आभाव में इलाज न करा सका और उसका देहांत हो गया। बीमारी का इलाज कराने के लिए भी जब अपने पैसे की मांग की तो प्रभाकर द्विवेदी ने पैसे नही दिए और टरकाते रहे। पैसे के लेन देन की प्रमाणिकता बैंक के द्वारा दिए गए स्टेटमेंट से की जा सकती है।

अब देखना ये है कि इस तथाकथित सम्पादक व एल आई सी प्लाटिंग के संचालक प्रभाकर द्विवेदी के और कितने शिकार है जो अभी सामने आकर न्याय की गुहार लगाते है। वहीं इन तथाकथित सम्पादक जी के गोल गिरोह के सदस्य अपने आँका को महात्मा बनाने की भरसक कोशिश कर रहे है और ये कह रहे है कि उनके आँका एक साफ सुथरे छवि के व्यक्ति है जिन्हें साजिशन फंसाया गया है। मगर इन अक्ल के अंधो को कौन समझाये कि जब पाप का घड़ा भरता है तो मनुष्य के किये सारे पाप एक एक कर ऐसे ही समाज के सामने आते है।

रिपोर्ट – रविंद्रनाथ सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here