जनरल वी.के. सिंह ने दिया राहुल गाँधी को करारा जवाब, बोले 57 दिनों के लिए कहाँ गायब हो गए थे

0
565

расписание дизель поезда витебск шумилино помидоры семко описание दिल्ली- आजकल संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है और देश भर के सांसद चाहे वह लोक सभा के हो या फिर राज्य सभा के सभी संसद के भीतर मौजूद है I सांसद जब संसद के भीतर हो और आरोप प्रत्यारोप का दौर न चले यह तो हो ही नहीं सकता है I

280 कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने अपने संसद में भाषण के दौरान मोदी सरकार के विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह के ऊपर जबरदस्त हमला बोलते हुए कहा था कि जनरल वी.के. सिंह अक्सर देश के बाहर रहते है और साथ ही राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री श्री मोदी पर भी निशाना साधते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री सबका साथ और सबका विकास की बात करते है लेकिन उन्ही के कुछ मंत्री दलितों को कुत्ता कहते है फिर भी उन्हें बर्खास्त नहीं किया जाता है I

http://xd195.com/library/chto-delat-esli-slomalas-knopka-domoy.html что делать если сломалась кнопка домой

история флота история славы россии यह काफी असमंजस वाली बात है कि राहुल गाँधी मेरी संसद से अनुपस्तिथि पर सवाल उठा रहे हैं। गौर करने की बात ये है श्री राहुल…

проблемы с киа сид 2016 Posted by General V.K. Singh on Wednesday, 2 December 2015

сколько стоит сделать кардиограмму сердца  
आज जनरल वीके सिंह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष का जवाब देते हुए अपने फेसबुक सोशल मीडिया के पेज पर लिखा है कि, “यह काफी असमंजस वाली बात है कि राहुल गाँधी मेरी संसद से अनुपस्तिथि पर सवाल उठा रहे हैं।
गौर करने की बात ये है श्री राहुल गाँधी 57 दिनों के लिए हाल ही में कहाँ गायब हो गए थे, इसका उत्तर भारत को क्या, 98% काँग्रेसियों को भी नहीं पता।
ज्ञात हो, 2013 में श्री राहुल गाँधी ने संसद में 43% की प्रभावशाली उपस्तिथि दर्ज की थी।
राहुल गाँधी जी, मैं विदेश मंत्रालय में राज्य मंत्री हूँ। परिभाषा से मेरा अधिकांश समय देश के बाहर व्यतीत होता है। जब अन्य देशों से सम्बन्ध सुधारने के लिए मैं लगातार यात्रा नहीं कर रहा होता, तो यमन जैसे देशों में उत्पन्न आपातकालीन परिस्तिथियों से जूझ रहा होता हूँ। कभी अवकाश ले कर आइयेगा। चाय पर समझाया जाएगा आपको। या जब कभी देश की सेवा में दौड़ भाग करेंगे तो खुद ही समझ जाएंगे।
अपने प्यारे देश में रहना और संसद में बहस करना एक ऐसा आनंद है जिसका आप भोग करिये। सौभाग्य से आप सांसद हैं।
तब तक मैं देश के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी निभाता हूँ”I