खतरे के लाल निशान से 12 से मी ऊपर, अब भी बढाव पर है घाघरा

0
64

रेवती/बलिया(ब्यूरो)-  घाघरा के जलस्तर मे वृद्धि के साथ तटवर्ती ग्रामीणो की धड़कने बढती जा रही है । टी एस बंधा के डेन्जर जोन तिलापुर मे नदी के दबाव को देखते हुए तटवर्ती ग्रामीण रात मे रतजगा कर स्वयं बंधे की निगरानी कर रहै है । बुधवार की सायं से चांदपुर मे घाघरा ने खतरे के लाल निशान 58 मी से 58’12 यानी 12 से मी ऊपर बह रही है डेन्जर जोन नदी ने पहले से बंधा पकड़ रखा है । वर्षात से पूर्व स्पर मरम्मत का कार्य भी पूर्ण नही हो पाया है ।आसन्न खतरा उत्पन्न होने पर फ्लड फाइटिंग के लिए जहा पर्याप्त मात्रा मे बालू भरी बोरी ,बोल्डर,जाली तथा बालू का स्टाक होना चाहिए वहा नाममात्र के लिए 100 बोरी बालू भरी स्टाक रखा गया है ।

तटवर्ती ग्रामीणों का कहना है कि कि डेन्जर लेबल पार करने के बाद बंधे पर लाईट, प्रकाश व जनरेटर की ब्यवस्था सुनिश्चित होनी चाहिए। वह अभी तक नही हो पाया है । ऐसे मे बंधे की सुरक्षा राम भरोसे है| नदी के जलस्तर मे वृद्धि होने के साथ बंधे के उत्तर फ्लड जोन मे परवल के सैकड़ो एकड़ खेत पानी मे डूब गये है। नालो व छाडन भरने के बाद पानी बंधे के समीप आता जा रहा है । फ्लड जोन मे बसे धूपनाथ व बैजनाथ के डेरा के लोगो को बंधे तक आने जाने के लिए नाला मे घुटनो तथा कही जंघे पर पानी हेलकर आने जाने मे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ।वशिष्ठनगर के पूर्व प्रधान धूपनाथ यादव ने बंधे तक आने जाने के लिए छोटी डेगी की तात्काल ब्यवस्था सुनिश्चित किये जाने की मांग जिला प्रशासन से की है ।

रिपोर्ट – अनिल केसरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here