सरकार को जनता की फिक्र नहीं बल्कि शराब बिक्री की ज्यादा फिक्र

0
26

देहरादून (ब्यूरो)- उत्तराखंड मंत्रीमंडल की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। केएमवीएम, जीएमवीएन, जिला पंचायत व निकाय कर्मियों को सातवां वेतनमान का लाभ देने पर भी कैबिनेट ने मुहर लगा दी। साथ ही तय किया गया कि शराब की दुकानें अब सुबह दस बजे से रात दस बजे तक खुलेंगी।

आपको बता दें कि पहले सरकार ने यह फैसला  किया था कि कई पर्वतीय इलाकों में शराब की दुकाने शाम 6 बजे तक खुली रहेंगी, जिसे कैबिनेट बैठक में बढ़ाकर सुबह 10 से रात के 10 बजे तक कर दिया गया है| क्या सरकार के पास कोई मुद्दा नहीं बचा था|

शराब की दुकान खुलने को लेकर जगह-जगह महिलाओं ने विरोध कर उग्र आंदोलन भी किया था. मह|लाओं ने इस फैसले पर आपत्ति जताई थी और शराब की दुकाने कॉलोनी या दूर खोलने की मांग की थी, साथ ही शराब के नशे से हो रही घरेलू हिंसा से परेशान महिलाओं ने शराब के ठेके बंद करने की भी मांग की थी लेकिन शायद सरकार के लिए जनता की खुशी से ज्यादा जरुरी शराब की बिक्री है, तभी तो शराब की दुकानों को बंद या समय में कमी लाने की जगह शराब की दुकान खोलने औऱ बंद करने का समय सुबह 10 से शाम 10 बजे तक रख दिया, ताकि शराबी सुबह से लेकर शाम तक नशे में धुत्त रहें और शराब पीकर देवभूमि में घटनाएं बढ़े| लगता है सरकार को जनता की फिक्र नहीं बल्कि शराब बिकने की ज्यादा फिक्र है, वरना में अभी ऐसे कई मुद्दे है जिसे सरकार कैबिनेट में उठा सकती थी और उन पर काम कर सकती थी|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here