पीएम मोदी की बहुउद्देश्यीय योजना के साथ हो रहा है खिलवाड़, प्रधानमंत्री आवास योजना में प्राइवेट कर्मचारी कर रहे घूँसखोरी

0
159


जालौन (ब्यूरो)- भारत सरकार की महत्वपूर्ण आवास योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना का सर्वे का काम देख रही कंपनी के कर्मचारी सर्वे के नाम पर खानापूर्ति करने एवं आवेदकों से सुविधा शुल्क मांगने में लगे हैं।

बता दें कि नगर में प्रधानमंत्री आवास योजना के आॅन लाइन आवेदकों की जांच का काम विजन कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया है। कंपनी के कर्मचारियों को दायित्व सोंपा गया है कि वह प्रत्येक आवेदक से मिलें और उनसे फोटो, आधारकार्ड, बैंक पासबुक, शपथ पत्र व समझौता पत्र प्राप्त करके अपनी रिपोर्ट सोंपें।

कंपनी ने शिक्षित बेरोजगारों को एक दिन में कम से कम 30 लोगों की रिपोर्ट प्रेषित करने का अल्टीमेटम दिया है। इससे कम रिपोर्ट देने पर कंपनी ने वेतन काटने का प्रावधान रखा है। एक ओर अपना वेतन बचाने के चक्कर में कर्मचारी सर्वे के नाम पर खानापूर्ति करने में लगे हैं तो वहीं, दूसरी ओर कर्मचारी सुविधा शुल्क के रूप में रूपए ऐंठने में भी लगे हैं।

आवास योजना के सर्वे के नाम पर कंपनी के कर्मचारियों की ओर से की जा रही खानापूर्ति व रूपए मांगने से सर्वे पर सवालिया निशान लग रहे हैं। इस संदर्भ में जब कंपनी के जिला प्रभारी विनोद कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि कंपनी के एक कर्मचारी की आवेदकों से रूपए मांगने की शिकायत मिली है उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि कंपनी के कर्मचारी का काम सिर्फ आवेदकों से कागजात जाम कराने का है, यदि कोई कर्मचारी रूपए मांगता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here