सो रही सरकार, खुद से सड़क बनाने को मजबूर ग्रामीण अपने खर्च पर बना रहे हैं सड़क

0
143

Women labourers work at the construction site of a road in Kolkata January 8, 2015. Across towns and cities in India, it is not uncommon to see women cleaning building sites, carrying bricks and or shoveling gravel - helping construct the infrastructure necessary for the country's economic and social development. They help build roads, railway tracks, airports, and offices. They lay pipes for clean water supplies, cables for telecommunications, and dig the drains for sewage systems. But although women make up at least 20 percent of India's 40 million construction workers, they are less recognized than male workers with lower pay and often prone to safety hazards and sexual harassment. They are often unaware of their rights or scared to complain, say activists now trying to campaign for better treatment of women in the construction industry. To match story INDIA-WOMEN/CONSTRUCTION    Picture taken January 8, 2015.    REUTERS/Rupak De Chowdhuri (INDIA - Tags: BUSINESS EMPLOYMENT CONSTRUCTION SOCIETY TPX IMAGES OF THE DAY)

मुलताई के बालेगाँव पिछले काफी समय से गाँव से मुख्य मार्ग तक के लिए सड़क की मांग कर रहे थे, इसके लिए उन्होंने सरपंच, विधायक और सांसद सबके सामने अपनी समस्या रखी, पर किसी ने उनकी समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया |

लेकिन अब गाँव वालों ने आपस में मिलकर स्वयं के खर्चे और श्रम दान के माध्यम से सड़क बनाने का फैसला किया है | गाँव वालों ने बताया “गाँव से सड़क तक पहुँचने के लिए कोई मार्ग नहीं है, गाँव के तीन ओर से बड़े – बड़े नाले बहते हैं और एक ओर से ताप्ती नदी है, जिसकी वजह से गों के बच्चों को विद्यालय जाने में समस्या होती है जो कि सड़क बन जाने के बाद दूर हो जाएगी |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

9 − 3 =