यहां आकर सरकार की सभी योजना प्रायः हो जाती विलुप्त

0
93

jhopdi
समस्तीपुर : आपको जानकर यह आश्चर्य होगा कि शहर में खानाबदोश के रूप में रह रहे तीन दर्जन से अधिक लोगों की एक कॉलोनी सरकार की सभी योजनाओं से अभी तक महरूम है. न यहां के लोगों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है और न हीं प्रशासनिक स्तर पर इस तबके के लोगों को विकास जोडने का कोई योजना क्रियान्वित की जा रही है |तो आइए आपको इस कॉलोनी से परिचय करवाते है. समस्तीपुर स्टेशन से थोडा आगे जिसे लोग मालगोदाम चौक कहते है, यहां लगभग 60 से अधिक ऐसे लोग सड़क किनारे वर्षो से रह रहे है. जो शारीरिक दृष्टि से पूरी तरह से स्वस्थ्य नहीं है. ऐसे लोगों को आमलोग उपेक्षा की दृष्टि से देखा करते है |

इस कॉलोनी का नाम है कुष्ठ कॉलोनी यानी यहां रहने वाले अधिकांश परिवार के लोगों में कुष्ठ नामक बीमारी काफी देखी जाती है, एक तो इन्हें इस तरह की बीमारी से कई तरह ही परेशानियां झेलनी पड़ती है, दूसरी इन्हें कोई सरकारी स्तर पर मदद नही मिल रही है, जिससे ये अपने को असहाय महसूस करते है |

हालात यह है कि रहने के लिए इस कॉलोनी के लोग इधर-उधर से पन्नी, कपड़े आदि इकट्ठे कर सड़क किनारें सर छुपाने के लिए एक छोटा-सा घर का आकार खड़ा कर लिया है, लेकिन इन्हे जो मूलभूत सुविधा मिलनी चाहिए थी, वह अभी तक उपलब्ध नही हो सका है, लगभग 25 वर्षो से यहां लोग रह रहे है. लेकिन एक शौचालय तक इनके लिए प्रशासन ने बनाना उचित नही समझा |

सुबह में घर की महिलाएं या बच्चे कहीं शौच के लिए जाते है तो बैठते ही इन्हें वहां से भगा दिया जाता है, पानी पीने के लिए भी इन्हें टकटकी लगाकर मौके की तलाश में रहना पडता है, किसी भी चापाकल से इन्हें लोग पानी नहीं लेने देते है, किसी तरह मौका तलाश कर ये पानी लेकर अपनी कंठ की प्यास बुझा पाते है |

यहां के लोगों का कहना है कि उनकी स्थिति के बारे में जनप्रतिनिधियों से लेकर सरकारी अधिकारी तक सब को जानकारी लेकिन किसी ने अभी तक ध्यान नही दिया.इससे स्पस्ट होता है कि यह भी तो समाज का हिस्सा है,पर जनप्रतिनिधि या सरकारी अधिकारी का ध्यान इस ओर क़्यों नही है |

रिपोर्ट – रंजीत कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY