सरकार द्वारा कॉल ड्राप पर किए गए सक्रिय उपाय

0
108

идеи для вечера с любимым

http://www.vturme.ru/docs/sitemap46.html цветы из денег своими руками пошаговая инструкция

विभाग सभी ऑपरेटरों के साथ साप्‍ताहिक या दस दिनों के आधार पर इन सभी प्रयासों की निगरानी कर रहा है। पूरे देश में उनके प्रदर्शन के मूल्‍यांकन हेतु एक विशेष लेखा परीक्षा भी गई थी। ख़राब परिचालन वाली 34,600 सेलों में से लगभग 16,962 सेल की गुणवत्ता में सुधार हुआ है तथा शेष के कार्य में प्रगति हो रही है। कॉल ड्राप्स के लिए आपरेटरों को प्रोत्साहन या हतोत्साहित करने की सिफारिश करने के बारे में विचार करने हेतु ट्राई से अनुरोध किया गया है।

खासतौर से बिहार में, बीएसएनएल के 7वें चरण के विस्तार में 1150 2जी बीटीएस की योजना बनाई गयी है जिसमें से 620 बीटीएस को स्थापित किया गया है जो कार्यरत है। बिहार में 228 3जी बीटीएस में से में 120 स्‍थापित किये गए हैं, जो कार्यरत हैं। बीएसएनएल का एक विशेषज्ञ दल स्थिति का मूल्यांकन करने के लिए क्षेत्र का लगातार दौरा कर रहा है। विभाग की निगरानी के अंतर्गत अन्य निजी ऑपरेटर जैसे एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया आदि भी बिहार में नए मोबाइल टॉवेरों को स्थापित करके तथा क्षमता-वर्धन द्वारा अपने नेटवर्क में सुधार लाने हेतु प्रयासरत हैं। बिहार एवं देश के अन्य भागों में स्थिति में सुधार आना शुरू हो गया है। एक सतत प्रक्रिया के रूप में आगे सुधार लाने के लिए इसकी लगातार निगरानी की जाएगी। हमारी सरकार इस दिशा में प्रतिबद्ध है।

 

Source – PIB

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY