गांव में प्रतिद्वंद्विता नहीं चाहते, सरपंच-पंच समेत सभी चुने गए निर्विरोध

0
199

महासमुंद-छत्तीसगढ़ : ग्राम पंचायत परसाडीह में चुनाव तो होते हैं, लेकिन प्रत्याशी तय होने के बाद प्रतिद्वंद्वी नहीं खड़े किए जाते। प्रतिद्वंद्विता से दूर दो गांवों की इस पंचायत में सभी प्रतिनिधि निर्विरोध चुनकर आए हैं।

ग्रामीणों का मानना है कि वे गांव के विकास के बारे में सोचते हैं न कि पद पाने के लिए। इसलिए ग्राम पंचायत परसाडीह में सरपंच ही नहीं, बल्कि उपसरपंच और सभी पंच भी निर्विरोध चुने गए हैं। ग्राम पंचायत परसाडीह के आश्रित ग्राम गुरुड़डीह की जनसंख्या करीब 2000 है।

मुख्यालय से 15 किमी दूर इस गांव के लोगों में भाईचारा और समरसता देखते ही बनती है। सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत विकास कराने को लेकर दो गांवों के इस पंचायत में कोई विवाद नहीं है। शासन की योजनाओं का लाभ यहां के ग्रामीणों को बखूबी मिल रहा है। गांव के रमाकांत ध्रुव, हीरालाल ध्रुव, भूषण पटेल, नारायण पटेल व अन्य के अनुसार दोनों गांव में विकास कराने की ललक है। गांव का कोई भी प्रतिनिधि अपने निर्णय लोगों पर नहीं थोपता। बैठक में सभी की राय लेकर निर्णय लिया जाता है।

पानी की समस्या सुलझी तो बना दोनों गांवों के बीच सामंजस्य
पहले परसाडीह पीढ़ी व गुरुड़डीह लहंगर पंचायत में था। दोनों गांवों के बीच पानी को लेकर विवाद था। खरखरा बांध का पानी गुरुड़डीह के ग्रामीण तालाब में भर लेते और परसाडीह के ग्रामीणों को पानी नहीं मिल पाता था। दोनों गांव में बलवा की नौबत बनी रहती। दोनों गांवों के एक पंचायत में शामिल होने के बाद 2007 में वन विभाग और जलसंसाधन विभाग की ओर से नहर बनाई गई। इसके बाद दोनों गांवों को भरपूर पानी मिलना शुरु हो गया। परसाडीह के मनराखन ठाकुर और गुुरुड़डीह के रमाकांत ध्रुव की पहल पर दोनों गांव में विवाद की बजाए एकजुट होकर पूरे गांव के विकास के लिए सामंजस्य की पहल हुई।

महिलाएं सक्रिय, 15 साल से बंद है शराब
दोनों गांवों की महिलाओं की सक्रियता के चलते इस गांव में पिछले 15 साल से शराब बनना बंद हो चुका है। सरपंच प्रियांशी यादव बताती हैं कि दोनों गांवों के एक होने से पहले वनांचल क्षेत्र के कारण यहां महुआ की शराब बनाई जाती थी। पंचायत और ग्रामीणों ने महिलाओं की अपील को स्वीकार किया और शराब बनाने या बेचते पाए जाने पर 5000 रुपए अर्थदंड की घोषणा की थी।

रिपोर्ट–हरदीप छाबड़ा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here