भामाषाह की रैली को सफल बनाने के लिये गुडडू ने किया जनसम्पर्क

0
81
प्रतीकात्मक

औरैया(ब्यूरो)- अखिल भारतीय वैष्य एकता परिषद के तत्वाधान में होने वाली दिबियापुर में रविवार को भामाषाह वाहन रैली को सफल बनाने के लिये व्यापारी नेता बृजेन्द्र गुप्ता उर्फ गुडडू के आवास पर पदाधिकारियों की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें पदाधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारी सौंपी गयी तथा स्थानीय आवास से प्रातः 8 बजे सैकडों वाहनों के साथ दिबियापुर के लिये प्रस्थान करेगी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दिबियापुर में होने वाली अखिल भारतीय वैष्य एकता परिषद के तत्वाधान में होने वाली विषाल वाहन रैली का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि वैष्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौजूद रहेंगे। वाहन रैली के बाद एक बैठक सम्पन्न होगी। व्यापारी नेता बृजेन्द्र गुप्ता गुड्डू ने पदाधिकारियों के साथ सदर बाजार बतासा मण्डी, गुमटी, इटावा रोड, जेसीज चैराहा आदि व्यापारियों से मिलकर वाहन रैली को सफल बनाने की अपील की और कहा कि भामाषाह का इतिहास एक पुराना इतिहास है।

भामाषाह का जन्म राजस्थान के मेवाड राज्य में 29 अप्रैल 1547 को हुआ था। इनके पिता का नाम भारमल था। जिन्हें राणा सांगा के रणथम्भौर के किले का किलेदार नियुक्त किया गया था। कालांन्तर में राजा उदय सिंह के प्रधानमंत्री भी रहे। भामाषाह बालकाल से ही मेवाड के राजा महाराणा प्रताप के मित्र सहयोगी व विष्वास पात्र मित्र भी रहे। श्री गुप्ता ने कहा कि भामाषाह के सम्मान में सन् 2000 में तीन रूपये का डांक टिकट जारी किया था। उनके नाम पर कई सरकारी योजनाओं संस्थानों व स्थानों का नामकरण किया गया। बैठक में राजकुमार पोरवाल उर्फ राजू, आनन्द नाथ गुप्ता, अखिलेष सक्सेना, नीरज पोरवाल, राघवेन्द्र उर्फ डब्बू पोरवाल, उमेष विष्नोई, शषि गुप्ता, विकास पोरवाल, प्रकाष पोरवाल, गौरव पोरवाल आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।

रिपोर्ट-  मनोज कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY