गुर्जर आन्दोलन ख़त्म, 5% आरक्षण पर राजी हुई राजस्थान सरकार

0
547

वसुंधरा राजे सरकार के साथ आरक्षण के मामले में समझौता होने के बाद गुर्जरों ने अपना आंदोलन समाप्त करते हुए रेल पटरियों को तथा सड़क मार्ग को खाली कर दिया हैं। गौरतलब हैं कि गुर्जर समुदाय के लोग पिछले आठ दिनों से भरतपुर जिले के बयाना के पास पीलूपुरा में रेल पटरियों पर गुर्जरों के धरना दे रहे थे जिसके कारण पिछले आठ दिनों से दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग ठप हो चुका था। आंदोलन समाप्त होने और गुर्जरों के द्वारा रेल की पटरी खाली कर देने के बाद अभी यातायात शुरु नहीं हो पाया है, क्योकि गुर्जर समुदाय के लोगों ने धरना देने के साथ-साथ रेल की पटरियों को भी नुकसान पहुँचाया था जिसके मरम्मत का काम अभी चल रहा है।

राजस्थान के भरतपुर जिले में की रेल पटरियों पर खड़े होकर आन्दोलन करते गुर्जर समुदाय के लोग
राजस्थान के भरतपुर जिले में की रेल पटरियों पर खड़े होकर आन्दोलन करते गुर्जर समुदाय के लोग

रेल मार्ग के साथ गुर्जरों ने भरतपुर एवं दौसा जिले में सड़क मार्ग भी अवरुद्ध कर दिए थे, जो अब खुल चुके हैं जिसके फलस्वरूप सरकारी वाहन और निजी वाहनों का आवागमन शुरू हो गया है।

 

गुर्जरों के द्वारा चलाया गया यह आन्दोलन पिछले आठ दिनों से चला आ रहा था जो कि अब समाप्त हो चुका हैं, वसुंधरा राजे की राजस्थान सरकार ने गुर्जरों के पांच फीसदी आरक्षण देने की मांग को स्वीकार कर लिया है। जयपुर में राजस्थान के चिकित्सा मंत्री राजेंद्र सिंह राठौड़ ने बताया कि इस संबंध में सरकार नया विधेयक लेकर आएगी, जिसे विधानसभा में पास भी कराया जाएगा। श्री राठौड़ ने आगे कहा कि सरकार और आंदोलनकारी गुर्जरों के बीच आठ बिंदुओं पर सहमति बन गई है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

eleven + 7 =