एक और हिन्दुस्तान की बेटी ने रच दिया इतिहास, बन गयी मिस जापान, कहा पिता के हिन्दुस्तानी होने पर गर्व

0
11064

miss japan

टोक्यो- भारत की एक और बेटी ने इतिहास रच दिया है और इस बार यह इतिहास जापान में रचा गया है | दरअसल आपको बता दें कि भारतीय मूल की इस युवती का नाम प्रियंका योशिकावा है और इन्हें इस साल जापान की मिस जापान चुना गया है | प्रियंका जापान में हाथियों को ट्रेनिंग देने का काम करती है |

बता दें कि यह पहला मौका है जब किसी भारतीय मूल की युवती को यह ख़िताब हासिल किया है | ज्ञात हो कि प्रियंका के पिता एक भारतीय है और उनकी माँ जापानी है | खिताब मिलने के बाद जापान की मिस यूनिवर्स ने कहा कि उनके पिता भारतीय है इस पर उन्हें गर्व है |

मिस यूनिवर्स के खिताब के ही साथ विवादों में भी घिर गयी प्रियंका –
बता दें कि जैसे ही भारतीय मूल की युवती प्रियंका योशिकावा को मिस जापान का खिताब दिया गया वैसे ही उनका नाता एक विवाद से भी जुड़ गया | दरअसल जापान के सोशल मीडिया पर यह मामला ट्रेंड कर रहा है कि मिस जापान पूरी तरह से जापानी होनी चाहिए थी न कि आधी जापानी | दरअसल यह जापान में उनके मिश्रित नस्ल के होने पर किया जा रहा है |

पहले मिश्रित नस्ल की लड़कियां नहीं कर सकती थी जापान का नेतृत्व –
योशिकावा ने अपने एक साक्षात्कार के दौरान कहा था कि अरियाना से पहले कोई भी मिश्रित नस्ल की लड़की जापान का प्रतिनिधित्त्व नहीं कर सकती थी | इन्हें यह खिताब उनके बॉलीवुड एक्ट्रेस की तरह से दिखने पर यह खिताब दिया गया है | प्रियंका ने संकल्प लिया है कि वे जापान में नस्ली पूर्वाग्रह के खिलाफ लड़ाई जारी रखेंगी |

मिस जापान ने कहा है कि, “मै एक जापानी हूँ लेकिन यह सत्य है कि मै आधी भारतीय हूँ और मुझे अपने पिता के भारतीय होने पर गर्व है |” उन्होंने यह भी कहा है कि अक्सर लोग मुझसे मेरी नस्ली शुद्धता के बारे में पूछते है क्योंकि मेरे पिता एक भारतीय है | यह सच है कि मै आधी भारतीय हूँ तो इसका मतलब यह तो नहीं कि मै जापानी नहीं हूँ | यह भी बता दें कि प्रियंका योशिकावा धाराप्रवाह जापानी और अंग्रेजी भाषा बोलती है | प्रियंका 22 दिसंबर को वाशिंगटन में होने वाले मिस वर्ल्ड खिताब में जापान का नेत्र्तत्व करेंगी |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY