हर-हर महादेव के जयकारों से गूँजे शिवालय

0
97


खीरों, रायबरेली। विकास क्षेत्र के सभी गाँवों में शुक्रवार को महाशिवरात्रि का पावन धार्मिक पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया गया। क्षेत्र के गाँव अतरहर के फटहेश्वर, मथुराखेड़ा के तालेश्वर, रनापुर पहरौली के गंगेश्वर, पाहो के वनखंडेश्वर, थाना खीरों के रामेश्वर, सहित सभी गाँवों के दर्जनों शिव मंदिरों में शुक्रवार की सुबह से ही भक्तों की भारी भीड़ देखी गई। सभी भक्तों ने शिव लिंग पर फल-फूल, बेलपत्र, धतूरा, अक्षत, जौ, गन्ना, बेर और गंगाजल चढ़ाकर अभिषेक किया। जगह-जगह ओम नमः शिवाय के जप और राम चरित मानस के अखण्ड पाठ का भी आयोजन किया गया। क्षेत्र के अतरहर, मथुराखेड़ा सहित कई गाँवों में मेले का भी आयोजन किया गया।

पौराणिक कथाओं में भी महाशिवरात्रि का बहुत बड़ा महत्त्व है। एक कथानक के अनुसार एक बार माता पार्वती ने भगवान शिव का दुनिया भर के सर्पों से भगवान शिव का श्रृंगार किया। शेषनाग को हांथों का कंगन बनाया। लेकिन शेषनाग का फन नीचे नहीं झुक रहा था तो पार्वती जी ने अंगूठे से झटका देकर फन दबा दिया। जिससे शेषनाग की आँखों से दो बूँद आँसू निकल कर जमीन पर गिर गए। उन्ही आँसुओं की एक बूँद से सुनैना का जन्म हुआ जो राजा जनक की पटरानी बनी। दूसरी बूँद से सुलोचना का जन्म हुआ जो मेघनाद की पत्नी बनी। तभी से यह महाशिवरात्रि का धार्मिक पर्व हिन्दू धर्म के लोग बड़ी श्रद्धा और भक्ति से मनाते हैं।

रिपोर्ट राजेश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here