दबंगई करके पहले मजलूमों की करते हैं पिटाई, फिर पुलिस को फोन कर पीड़ित को ही कर देते हैं पुलिस के हवाले

0
99

उन्नाव (ब्यूरो)- उत्तर प्रदेश मे सत्तासीन राज्य सरकार एक तरफ भय मुक्त शासन का ढिंढोरा पीट रही है तो वही दूसरी तरफ लोग कानून को अपने हाथ मे लेकर गुन्डई कर रहे हैं और इसमें सौ नंबर पुलिस उनके लिए बरदान साबित हो रही है पहले गुन्डई करके लोगों को पीटते हैं और उसके बाद सौ नंबर पर फोन करके पुलिस बुला करके उनके सुपुर्द कर देते हैं सौ नंबर वाले बिना जाने पीड़ित को ही थाने में ले जाकर बैठा देते हैं फिर थाना पुलिस को मजबूरी वश चोट खाए पीड़ित का ही किसी न किसी धारा में चालान करना पड़ता है इसका ताजा उदाहरण है |

थाना माँखी क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम रावतपुर में देखने को मिला जहां के निवासी राम प्रसाद जो होमगार्ड में कार्यरत हैं चार व पांच अगस्त की रात को यह परिवार सहित सो रहे थे तभी मौका लगा कर चोर दरवाजे पर बधीं दो बकरी खोल कर चार पहिए पर लाद कर रफूचक्कर हो गए गाड़ी की आवाज सुनकर इन लोगों की आंखे खुली तो देखा कि चोर बकरी लाद ले गए हैं | आनन-फानन परिवार सहित रात को ही गांव में बकरी व बकरी चोरों का पता करना शुरू किया जबकि चोर चार पहिया से बकरी ले गए तो बकरी व चोर गांव में होने का सवाल ही नहीं उठता है फिर भी रात में सन्देह वश गांव के ही निवासी रामबाबू पुत्र पियारे के दरवाजे पर गये और वहाँ रामबाबू को आवाज लगाई जिस पर उसकी पत्नी बाहर निकली और पूछा कि क्या बात है तब राम प्रसाद व उनके पुत्रों द्वारा बताया गया कि हमारी बकरी अभी-अभी चोर खोल ले गए हैं और हमको रामबाबू पर सन्देह है तो पत्नी ने कहा कि वह घर में सो रहे हैं और अपने पति रामबाबू को जगा कर ले आयी तो राम प्रसाद के परिवार द्वारा कहा गया कि हमको रामबाबू पर सन्देह था उसी कारण पता करने आए थे लेकिन यह तो घर में सो रहा था, इसके बाद यह लोग वापस अपने घर चले गए आज दिन के नौ बजे के लगभग राम प्रसाद अपने लड़को के साथ मिलकर रामबाबू को उस वक्त पकड़ लिया जब वह साईकिल द्वारा मुंशीगंज से वापस आ रहा था | हाथ बांधने के बाद रामबाबू की लाठी डन्डों से खूब पिटाई की, खबर पाकर मां बाप पत्नी भी मौके पर पहुंचे उनकी भी दबंगों द्वारा कसके पिटाई की गई फिर गांव में दबाव बनाने के उद्देश्य से रामबाबू को हाथ बांध कर मोटरसाइकिल पर बैठाके मुंशीगंज तक ले जाया गया जहां से दबंगों द्वारा ही सौ नंबर पर फोन किया गया मौके पर पहुंची सौ नंबर पुलिस ने कुछ भी जानने कोशिश नहीं की और पीड़ित को ही पकड़कर मांखी थाने पहुंचा दिया है लोगों का कहना है कि क्या अब पुलिस की कोई भी जरुरत नही है तभी तो लोग कानून अपने हाथ में लेकर खुद थाना प्रभारी बनने में संकोच नहीं कर रहे हैं साथ ही लोगों का कहना है कि अगर रामबाबू ही इनकी बकरी लेगया है तो इनको कानून अपने हाथ में लेने का पावर किसने दे दिया है पुलिस का काम यह लोग करेगे तो फिर पुलिस की कोई जरूरत ही नहीं रह जायगी अगर दबंगों के खिलाफ थाना पुलिस ने संज्ञान न लिया तो भविष्य में अन्य लोग भी इनके कोप भाजन के शिकार हो सकते हैं इसमें जरा भी सन्देह नही है इस संबंध में थानाध्यक्ष धर्म प्रकाश शुक्ल से जानकारी की तो बताया छानबीन की जा रही है उसके बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

रिपोर्ट – जीतेन्द्र गौड़

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY