स्वास्थ्य निदेशक डॉ उमाकांत ने किया अस्पताल का औचक निरिक्षण, लापरवाही न बरतने की दी हिदायत

1
203

dr umakant upadhyay

जालौन- नगर में संचालित सामुदयिक स्वास्थ केंन्द का आज स्वास्थ्य निदेशक डॉ उमा कान्त ने औचक निरीक्षण किया जिसमें प्रयोगशाला इमरजेंसी वार्ड, महिला वार्ड, जनरल वार्ड के साथ प्रसव कक्ष समेत प्रत्येक कक्ष व काउन्टरों का निरीक्षण किया।

आपको बता दें कि, डां ने जब प्रसव कक्ष में स्टाफ नर्स रीना से पूछा एपनिया किसे कहते हैं इसके लक्षण क्या होते हैं तो वह जबाब नहीं दे पायी जिस पर उन्‍होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए फटकार लगाई तथा चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मुकेश कुमार लोधी को आदेश दिया कि वह सप्ताह में दो बार स्वंय पढ़कर कर्मचारियों के साथ बैठक करें तथा विषय की जानकारी दे।

स्वास्थ्य निदेशक कानपुर मण्डल के औचक निरीक्षण से चिकित्सालय के कर्मचारी चौकन्ना रहे। उन्होंने महिला वार्ड में जाकर महिला से चिकित्सालय में मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी ली। लैब टेक्नीशियन वर्मा से जांचों की जानकारी ली तथा वहां पर मौजूद लोगों से बातचीत करके पैसे तो नहीं लग रहा है। इसकी जानकारी की। कोल्ड रुम में जाकर प्रभारी शाकिर से जब आइस पैक लगाने तथा फ्रीजर में दवा लगाने की जानकारी मांगी तो वह नहीं बता पाये।

बता दें कि, अन्त में उन्होंने चिकित्सालय का रिकार्ड देखा तथा कहा कि व्यवस्थाएं लगभग ठीक है। प्रसव कक्ष में सफाई और अच्छी होनी चाहिए। मरीजों को बैठने की व्यवस्था पर्याप्त नहीं है। इन्हें अगले माह तक ठीक हो जाना चाहिए। क्योंकि डाक्टर या स्टाफ की जरा सी लापरवाही बच्चे की मौत का कारण बन जाती है। चिकित्सालय में मौजूद आक्सीजन गैस सिलेंडर, बार्मर मशीन को देखा तथा जनवरी माह में प्रसव के दौरान एक बच्चे की मौत पर असन्तोष व्यक्त किया। निदेशक ने सहायक मुख्य चिकित्सा अधिकारी को चिकित्सालय में दन्त उपचार की कुर्सी उपलब्ध कराने का भी आदेश दिया| बताते चलें कि, इस मौके पर सहायक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सत्य प्रकाश डा मुकेश राजपूत समेत चिकित्सालय का पूरा स्टाफ उपस्थिति था।
रिपोर्ट-अनुराग श्रीवास्तव की

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here