परीक्षा के समय बिजली की लुकाछिपी परीक्षार्थी व अभिभावक दोनों परेशान

0
102

जालौन(ब्यूरो)– वार्षिक परीक्षाओं का दौर शुरू हो चुका है। जिनमें ग्रह परीक्षाऐं तो शुरू हो चुकी है। तो वहीं, विभिन्न बोर्डों एवं विश्वविद्यालय की परीक्षाऐं भी अगले एक-दो हफ्तों में शुरू होने वाली हैं। परीक्षाओं के समय सुबह शाम हो रही बिजली की कटौती से परीक्षार्थियों के साथ ही अभिभावक भी परेशान हैं। परीक्षार्थियों के लिए परीक्षा एवं परीक्षा से पहले का समय काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। परीक्षार्थी बोर्ड व विश्वविद्यालय की परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हैं। जिन परीक्षार्थियों की परीक्षाऐं आरंभ हो चुकी हैं वह तो दिन रात एक करके अध्ययन करने जुटे ही हैं। इसके अलावा जिनकी परीक्षाऐं शुरू होने वाली हैं वह भी दिन, रात पढ़ाई करने में जुटे हुए हैं।

परीक्षा के दौरान बिजली विभाग द्वारा सुबह शाम की जा रही बिजली कटौती ने परीक्षार्थियों की परीक्षा की तैयारी में खलल पैदा कर दिया है। बिजली न आने के कारण सबसे अधिक परेशानी उन छात्रों को हो रही है जिनके घरों में इंवर्टर नहीं लगे हैं एवं जो बिजली पर ही निर्भर हैं। तो वहीं, बिजली कटौती का समय निर्धारित न होने से कोढ़ में खाज वाली स्थिति पैदा हो रही है। छात्र रितिक श्रीवास्तव कहते हैं कि हाई स्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाऐं 16 मार्च से प्रारंभ हो रही हैं। इस बीच में होली का त्योहार भी है। छात्रों के लिए यह समय काफी महत्वपूर्ण है। ऐसे में बिजली कटौती ने परीक्षा की तैयारियों में खलल पैदा कर दी है। छात्र दीपक सोनी कहते हैं कि बुंदेलखंड विश्वविद्यालय की परीक्षाऐं 17 मार्च से शुरू हो रही हैं। इसलिए सभी छात्र, छात्राऐं परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में बिजली की लुका छिपी ने छात्रों को काफी परेशान कर दिया है।

ग्रामीण क्षेत्र के छात्र शिवम कहते हैं कि एक ओर राशन कार्ड पर इतना मिटटी का तेल नहीं मिलता है कि महीना भर चल पाए। डेढ़ लीटर तेल एक महीना भी नहीं चल पाता। छात्र गौरव, मनीष, पवन, शुभम, सत्यम, राजेंद्र, अनुष्का, प्रीति, प्रियंका, स्वीटी, महिमा आकद ने जिलाधिकारी संदीप कौर से मांग की है कि सुबह शाम की बिजली कटौती बंद कराई जाए एवं परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र पर 5-5 लीटर मिटटी का तेल दिलाया जाए। जिससे परीक्षाओं की तैयारी छात्र आसानी से कर सकें। इस संबंध में जब जेई राजेश शाक्य से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अभी उन्हें जितनी बिजली मिल रही है। उसी के हिसाब से कटौती व आपूर्ति की जा रही है। यदि परीक्षाओं को लेकर कोई नया शिडयूल निकलता है तो उसी के हिसाब से विद्युत आपूर्ति की जाएगी।

रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY