हाईकोर्ट ने कन्हैया को लगाई फटकार, बोली पहले हड़ताल ख़त्म करो फिर करेंगे सुनवाई

0
293

दिल्ली- जेएनयू कैम्पस में देश विरोधी हरकतों में शामिल होने तथा पूर्व आतंकी अफज़ल गुरु के समर्थन में नारे बाजी करने और उसकी बरषी मनाने के आरोपी कन्हैया कुमार के ऊपर जेएनयू प्रशासन ने 10,000 रूपये का जुर्माना लगा दिया था | जिसके विरोध में कन्हैया कुमार अपने सहयोगी विद्यार्थियों के साथ पिछले काफी दिनों से धरने पर बैठे हुए थे | साथ ही कन्हैया कुमार ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर करके कहा था कि उन्हें इस जुर्माने से मुक्त किया जाना चाहिये | जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को आज हाईकोर्ट ने सख्ती से कहा है कि पहले कन्हैया कुमार अपनी हड़ताल ख़त्म करें हम तभी उस मामले में सुनवाई करेंगे |

कोर्ट ने आज कन्हैया कुमार के मामले पर सुनवाई करते हुए कहा है कि कन्हैया कुमार को अपने साथियों के साथ सबसे पहले भूख हड़ताल को खत्म करना होगा | हाईकोर्ट ने यह भी कहा है कि कन्हैया कुमार और उनके साथी किसी भी प्रकार का विश्वविद्यालय परिसर में आन्दोलन नहीं करेंगे | हम तब ही इस मामले पर सुनवाई कर सकते है |

जेएनयू प्रशासन के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की थी –
बता दें कि देश विरोधी गतिविधियों में सम्मिलित होने और जेएनयू में आतंकी के समर्थन में नारे बाजी करने के आरोपी छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के ऊपर जेएनयू प्रशासन ने अनुशासनहीनता का आरोप तय किया था | जिसके बाद कन्हैया कुमार के ऊपर विश्वविद्यालय ने 10,000 रूपये का जुर्माना लगाया था | जिसके खिलाफ पिछले 15-16 दिनों से छात्र संघ अध्यक्ष अपने साथियों के साथ भूख हड़ताल कर रहे है | आज उनके मामले कि सुनवाई हाईकोर्ट के जस्टिस मनमोहन की बेंच कर रही थी |

जस्टिस ने आज मामले की सुनवाई करते हुए कहा है कि, कन्हैया कुमार अपने साथियों के साथ तत्काल प्रभाव से भूख हड़ताल को ख़त्म करें और विश्वविद्यालय को अपना काम करने दें | उन्होंने आगे कहा है कि कन्हैया कुमार भरोषा दिलाएं कि आने वाले समय में वहां पर कोई भी विद्यार्थी आने वाले समय में भूख हड़ताल नहीं करेगा और न ही विश्वविद्यालय के किसी भी कम में कोई अड़चन पैदा करेगा | हम तभी इस मामले की सुनवाई कर सकते है |

कन्हैया कुमार के वकीलों ने की समय की मांग –
हाईकोर्ट ने जैसे ही कन्हैया कुमार को लेकर निर्देश जारी किए है उसके बाद कन्हैया कुमार के वकीलों ने थोड़े समय का वक्त माँगा था जिसके बाद कन्हैया कुमार से बातचीत करने के बाद उनके वकीलों ने कोर्ट को बताया है कि कन्हैया कुमार अपने साथियों के साथ भूख हड़ताल ख़त्म करने के लिए तैयार है लेकिन उन्होंने शर्त रखी है कि विश्वविद्यालय इस बात का भरोषा दे कि भूख हड़ताल पर गए बच्चों के साथ किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं होगी | कन्हैया के वकीलों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने विश्वविद्यालय के वकील से मामले के संबंध में जवाब माँगा है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here