आज का इतिहास – लाला लाजपत राय

0
270

लाला जी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के गरम दल के तीन प्रमुख नेताओं लाल-बाल-पाल में से एक थे। सन् 1928 में लाला जी के ही नेत्रत्त्व में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने साइमन कमीशन का विरोध किया था I और इसी साइमन कमीशन के विरोध के दौरान हुए लाठी चार्ज में लगी चोटों के कारण 17 नवंबर यानि आज के ही दिन लाला जी ने अपने शरीर का त्याग कर दिया था अर्थात उनकी म्रत्यु हो गयी थी I

जिस समय लाला जी लाठी चार्ज से घायल थे और अस्पताल में भर्ती थे उन्होंने कहा था कि, मेरे शरीर पर पड़ी एक-एक लाठी ब्रिटिश सरकार के ताबूत में एक-एक कील का काम करेगी।” और वही हुआ भी; लालाजी के बलिदान के 20 साल के भीतर ही ब्रिटिश साम्राज्य का सूर्य अस्त हो गया I

लालाजी ने हिन्दी में शिवाजी, श्रीकृष्ण और कई महापुरुषों की जीवनियाँ लिखीं। उन्होने देश में और विशेषतः पंजाब में हिन्दी के प्रचार-प्रसार में बहुत सहयोग दिया। देश में हिन्दी लागू करने के लिये उन्होने हस्ताक्षर अभियान भी चलाया था।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY