बैंक मैनेजर ने की तानाशाही की हदें पार, कालर पकड़कर ग्रामीण खाताधारक को किया बैंक के बाहर

0
104


उन्नाव ब्यूरो : बैंक मैनेजर की हिटलरशाही के चलते खातेधारक को खाते की जानकारी लेने पर गिरेबान पकड़कर बैंक से बाहर निकाला, बैंक मैनेजर से पीड़ित खाते धारक ने थाने में लिखित तहरीर देखकर कार्रवाई करने की मांग की।

हसनगंज कस्बे में स्थित ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावर्त में जहां आए दिन खातेदार को को मैनेजर क अभद्रता का शिकार होना पड़ता था वहीं एक बार फिर मजहर खेड़ा निवासी संतोश पुत्र रघुवीर व चचेरे भाई दिलीप को बैंक में खाते में जमा धनराशि की जानकारी मांगनी महंगी पड़ गयी बैंक मैनेजर ने कहा खाते में पैसा नहीं है और आग बबूला हो कर खाते धारक के चचेरे भाई दिलीप का गिरेबान पकड़कर धक्के मार कर बैंक से बाहर कर दिया जिस पर अन्य खाते धारको ने नाराजगी व्यक्त की जिसका बैंक मैनेजर पर कोई असर नहीं हुआ और अंदर से बैंक में ताला डाल कर हिटलरशाही का नायाब नमूना खातेधारको को दिखाया |


पीड़ित खाताधारक संतोष ने बताया कि 27 जुलाई 2016 में बचत खाता खुलवाकर एक हजार रुपए जमा किया था अब मालूम हुआ कि उसमें सिर्फ 69 रुपए बचे हैं जिसकी जानकारी बैंक मैनेजर से की जिस पर मैनेजर ने अभद्र व्यवहार किया बैंक मैनेजर के ऐसे व्यवहार से अन्य खातेदार जितेंद्र सिंह, समीर पांडे शिवनारायण गुप्ता, कंचन गुप्ता, श्रीमती इंद्रेश लता सहित दर्जनों खातेधारको ने बताया कि यह कोई पहला प्रकरण नहीं है इससे पहले भी हम लोग इस शाखा प्रबंधक कि हिटलरशाही का शिकार हो चुके हैं जिसकी थाने से लेकर विभागीय उच्चाधिकारियों को लिखित शिकायत कर चुके हैं लेकिन 1 वर्ष के बाद भी बैंक के शाखा प्रबंधक के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई ना ही पीड़ित खातेधारको से कोई पूछने आया जिससे अब खाते धारक निराश होकर एजीबी बैंक से खाता बंद करके अन्य बैंकों में खाता खुलवाने को मजबूर हैं, जबकि इस संबंध में बैंक के शाखा प्रबंधक से जानकारी लेने पर शाखा प्रबंधक आर पी सिंह ने बताया कि खाते धारक के खाते में अटल बिहारी पेंशन योजना में प्रतिमाह 76 रुपए कटता है जिसकी अभी तक 12 किश्ते कट चुकी हैं और अब खाते में सिर्फ 69 रुपए ही बचे हैं, गिरेबान पकड़ने के सवाल पर मैनेजर ने कहा खाते धारक ने खुद पेंशन खुलवाया था समझाने का प्रयास कर रहा था समझ नहीं आ रहा था खाताधारक जानबूझकर शिकायत करते रहते हैं |

जबकि खाताधारक संतोष ने शाखा प्रबंधक के द्वारा गिरेबान पकड़ने की शिकायत कोतवाली प्रभारी हसनगंज से की तथा मैनेजर पर पेंशन की जानकारी ना देख कर अपने टारगेट को पूरा करने के लिए धोखे से दस्तखत कराने का आरोप लगाया।

रिपोर्ट – राहुल राठौर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here