दो वर्ष से बिना चिकित्सक के चल रहा है होम्योपैथिक चिकित्सालय आलमखातोपुर

0
48

कमालपुर/चन्दौली (ब्यूरो) सैयदराजा बिधान सभा के आलमखातोपुर गांव में स्थित राजीकीय होमियोपैथिक चिकित्सालय पर दो साल से कोई चिकित्सक नही होने से ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा बन्द है।जिस कारण दर्जनों गांवों की भोली भाली जनता झोला छाप डॉक्टरों के चंगुल में फंसकर जीवन मौत से लड़ रही है।उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार बनने के बाद भी आज ग्रामीणों को नही मिली स्वास्थ्य सुविधा जिससे ग्रामीणों में रोष ब्याप्त है। कपिलदेव सिंह, भोला सिंह, तेज प्रताप सिंह, रणविजय सिंह, आलोक यादव, सहित अन्य ग्रामीणों का कहना है कि यह चिकित्सालय जनपद में रोगियों के इलाज में प्रथम रहा।

यहाँ पूर्वी महाईच परगना केएवती, महरा, डबरिया, अटौली, अवहीं, जिगिना, महूजी, विरास्राय, बरहन, सिलौटा, मंगलपुर, माधोपुर सहित कई गांवों के ग्रामीणों को इस चिकित्सालय से स्वास्थ्य सुविधा मिलती रही है। परंतु यहाँ तैनात डॉक्टर जो पिछले वर्ष ही सेवा से निवृत्त हो गए। उसके बाद वहा आज तक कोई डॉक्टर तैनात नही हो पाया।जिस कारण आज तक ग्रामीणों को डॉक्टर की तलाश है। यही नही रही सही वह भी 5 अगस्त को बंद हो गया।चिकित्सालय पर तैनात वार्ड बॉय गोपालसरन की मौत हो गयी उसकी मौत के बाद चिकित्सालय बन्द हो गया है। ग्रामीणों ने चेताया कि एक सप्ताह में चिकित्सालय पर डॉक्टर की तैनाती नही होगी तो ग्रामीण आंदोलन करेंगे। क्या कहते है राजनेता समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व विधायक मनोज सिंह ने कहा कि इस सरकार में किसी भला नही होगा ।बल्कि जनता को झूठ का पहाड़ा पढ़ाया जाएगा। पूर्वकी सरकार जनता के हितों का ध्यान रखती थी जनता के हित को ध्यान में रखते हुये हमने कमालपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थापना शुरू करवाया वह भी आज धन के अभाव में कार्य बंद हो गया है।इसी तरह कई एन एम सेंटर भी बंद है।उन्होंने कहा कि जनता की इन समस्याओं को लेकर सपा बड़ा आंदोलन करेगी।

रिपोर्ट – कुलदीप यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY