गांधारी ने महाभारत में कितनी बार अपने आँखों से हटाई पट्टी ?

0
1858

gandhari

गांधारी – गंधार नरेश महाराजा सुबल की इकलौती बेटी थी और गंधार की राजकुमारी होने की वजह से इनका नाम गांधारी पड़ गया था I महाभारत के मुख्य पात्रों में से एक सकुनि इनका बड़ा भाई था I गांधारी का विवाह पितामह भीष्म ने महाराज धृतराष्ट्र के साथ करवा दिया था I धृतराष्ट्र के जन्मांध होने के कारण ही विवाहोपरांत गांधारी ने आजीवन अपनी आँखों पर पट्टी बांधे रखने की प्रतिज्ञा की थी I

जब गांधारी ने तोड़ी अपनी प्रतिज्ञा –

महाभारत में कौरवों की माता और महाराज धृतराष्ट्र की पत्नी गांधारी को भगवान् शिव में असीम आस्था थी और उन्हें भगवान् शिव से ही यह वरदान प्राप्त था कि वह जब कभी भी किसी को भी अपनी आँखों की पट्टी उतारकर देख लेंगी उसका पूरा बदन लोहे का हो जायेगा और इसी वरदान के चलते गांधारी ने पुत्र मोह में आकर अपने अधर्मी पुत्र दुर्योधन की रक्षा करने के लिए महाभारत युद्ध के दौरान उसके पूरे बदन को नंगा देखने के लिए उन्होंने पट्टी उतारी थी लेकिन भगवान् कृष्ण की चाल की वजह से अपनी कमर पर शर्म की वजह से दुर्योधन ने केले का पत्ता लपेट लिया था I

दूसरी बार जब महाभारत का युद्ध समाप्ति पर था तब जिस समय गांधारी को अपने प्रिय पुत्र दुर्योधन के घायल होने का समाचार प्राप्त हुआ था उस समय उन्होंने अपनी आँखों की पट्टी खोलकर देखने के लिए भागी थी, लेकिन तब तक भीम ने दुर्योधन की कमर को तोड़ दिया था जिसके कारण दुर्योधन अपनी अंतिम सांस ले रहा था I और अंत में मर गया I

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here