पानी के बिना सैकड़ों एकड़ फसल प्रभावित

प्रतीकात्मक

कुशीनगर(ब्यूरो)- गंडक नहर के रेगुलटर का फाटक महिनों से खराब होने के चलते बिशुनपुरा राजवाहा में पानी नहीं पहुंचने से कई सौ एकड़ फसल व बुआई प्रभावित। सिंचाई विभाग के विरोध में किसानों ने नहर फाटक के सामने प्रदर्शन कर तुरंत समाधान करने की मांग की है।

प्रदेश सरकार के किसानो को समय से पानी उपलब्ध कराने के तमाम आदेश सिंचाई विभाग के लोगों पर लागू नहीं है। इसका नमूना है मुख्य पश्चिमी गंडक नहर का खडडा विकास खण्ड के क्षेत्र के सिंसवा गोपाल, मदनपुर सुकरौली, बिशुनपुरा, लगड़ी, चतुर छपरा, नरकुछपरा, खैरटिया, पिपरिया सहित दर्जनों मौजे के किसान सिंचाई के लिए बिशुनपुरा राजवाहा पर निर्भर है। उस राजवाहा में पानी पहुचाने के लिए बड़ी नहर में बने तीन में से दो फाटक महिनों से खराब पड़े हैं। इस वजह से राजवाहे में पानी नहीं जा रहा है। सैकड़ों किसानों की गन्ने की फसलों सहित अन्य फसल सिंचाई से वंचित हैं। इस समय धान की रोपनी का समय किसानों के लिए महत्वपूर्ण है ऐसे में फाटक मरम्मत नहीं होने से किसान मारे-मारे फिर रहे हैं| समाधान नहीं होता देख आक्रोशित किसानों ने शनिवार को फाटक के पास एकत्र होकर प्रदर्शन कर नारेबाजी किया। इस प्रदर्शन में विकाउ, हरिओम, पंकज, राम अधार, संगीता, गायत्री, रामगती सहित तमाम किसान मौजूद थे।

इस संबंध में अवर अभियंता एस एन कुशवाहा का कहना है कि फाटक मरम्मत के लिए प्रोजेक्ट मैनेजर को लिखा गया है, मरम्मत करने वाला मिस्त्री उपलब्ध नहीं था। अब उपलब्ध है शीघ्र ही इसको दुरुस्त कराकर राजवाहे में पानी पहुँचाया जाएगा ।

रिपोर्ट- राहुल पाण्डेय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here