भारत का गोल्डमेडलिस्ट पहलवान रियो ओलंपिक जाने के लिए मांग रहा है एक चांस

0
495

दिल्ली- राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड और लगातार दो ओलंपिक में मेडल जीतने वाले हरियाणा के पहलवान शुशील कुमार ने कहा है कि चाहते है कि उनके और नर सिंह के बीच में एक ट्रायल होना आवश्यक है | सुशील ने कहा है कि मै तो सिर्फ इतना ही चाहता हूँ कि हम दोनों में से जो भी बेहतर है उसे रियो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्त्व करना चाहिए | बता दें कि महाराष्ट्र के नर सिंह यादव 74 किलोग्राम वजन पुरुष वर्ग में पहले ही अपना कोटा हासिल कर चुके है | इसी कोटा के आधार पर नर सिंह रियो ओलंपिक 74 किग्रा पुरुष वर्ग की फ्री स्टाइल कुश्ती में देश का प्रतिनिधित्त्व करने की बात कर रहे है |

नर सिंह ने पिछले साल लास वेगास में आयोजित विश्व चैम्पियन शिप में कास्य पदक जीतकर रियो में जाने के लिए कोटा हासिल किया था | अब नर सिंह यादव उसी कोटे के दम पर रियो में भारत का प्रतिनिधित्त्व करने की दावेदारी कर रहे है | लेकिन अब शुशील कुमार के इस बयान के बाद फैसला डब्ल्यूऍफ़आई को करना है कि वह दोनों पहलवानों के बीच ट्रायल कराएगी या नहीं |

कोटा देश का होता है किसी ब्यक्ति विशेष का नहीं –
नर सिंह के कोटा के मामले पर शुशील कुमार ने कहा है कि कोई भी कोटा जो होता है वह देश का होता है कोटा किसी ब्यक्ति विशेष का कभी नहीं होता है | शुशील कुमार ने कहा है कि मै यह थोड़े नहीं कह रहा हूँ कि किसी एक को रियो भेजा जाय | मै तो बस सिर्फ यह कहने का प्रयास कर रहा हूँ कि हम दोनों के बीच जो भी बेहतर हो उसे देश का प्रतिनिधित्त्व रियो में करना चाहिए | उन्होंने कहा है कि यह कोई पहली बार नहीं है कि जब ट्रायल हो रहे है उन्होंने कहा है कि इससे पहले भी ऐसा हुआ है | उन्होंने कहा है कि जब एक विशेष भार वर्ग के लिए दो अच्छे बेहतर दावेदार मौजूद है तो बिलकुल ट्रायल होने चाहिए |

जार्डन बरोग को भी ट्रायल से गुजरना पड़ा है –
सुशील कुमार ने कहा है कि यहाँ तक कि मौजूदा विश्व और ओलंपिक चैम्पियन जार्डन बरोग को भी अमेरिकी टीम में जगह बनाने के लिए ट्रायल से गुजरना पड़ा है | उन्होंने कहा है कि जब मै 66 किलोग्राम के लिए खेल रहा था तब मेरे भार वर्ग में कोई भी पहलवान नहीं था इसीलिए मेरे साथ किसी कि भी प्रतिस्पर्धा नहीं थी लेकिन अब जब एक ही भार वर्ग के लिए दो बेहतर दावेदार है तो ट्रायल तो बनता है |

मेरी तैयारी बेहतर है –
सुशील कुमार ने कहा है कि मेरी तैयारी अगर बेहतर न होती तो मै खुद ट्रायल के लिए कभी नहीं कहता लेकिन मुझे पूर्ण विश्वास है कि मेरी तैयारी काफी बेहतर है | सुशील कुमार ने आगे कहा है कि सरकार ने मेरे ऊपर अच्छा ख़ासा पैसा खर्च किया है और यह केवल मौका है मेरे पास जिससे मै खुद को यह साबित कर सकूं कि मैंने जो तैयारी की है वह बेहतर है या नहीं | उन्होंने कहा है कि मुझे इस बात पर पूरा भरोषा है कि यदि मै इस बार रियो में गया तो मै अवश्य ही बेहतर करूँगा |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here