मैं लन्दन में अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद से मिला था – वरिष्ठ वकील राम जेठ मलानी

0
639

भारत के मशहूर वरिष्ठ वकील राम जेठ मलानी ने शनिवार को न्यूज एजेंसी ए.एन.आई. से बातचीत के दौरान यह दावा किया हैं कि उन्होंने लदंन में अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहीम से मुलाकात की थी I

उन्होंने (राम जेठ मलानी) ने यह भी कहा कि दाउद इब्राहीम 1993 में मुंबई में हुए बम धमाकों के बाद वह (दाउद इब्राहिम) भारत वापस आना चाहता था लेकिन उस समय की महाराष्ट्र की शरद पवार की सरकार ने उसकी वापसी के प्रस्ताव को सिरे से नकार दिया था और न केवल प्रदेश सरकार ने साथ ही साथ केंद्र सरकार को भी यह बता नहीं जँची थी की दाउद इब्राहीम भारत वापस आये I

daud ibrahim

वकील ने आगे कहा कि मेरे साथ हुई बात-चीत के दौरान दाउद ने मुझसे कहा था कि 1993 में हुए बम धमाकों में वह शामिल नहीं था I वरिष्ठ वकील राम जेठ मलानी के अनुसार दाउद भारत वापस आने के बाद यह चाहता था कि उसे नजरबन्द रखा जाय क्योंकि उसे अंदेसा था कि उसके ऊपर हमला हो सकता हैं और उसे जान से मारने की कोशिस की जा सकती हैं I और भारत वापस आने के बाद उस के उपर पूछताछ के दौरान थर्ड डिग्री का प्रयोग न किया जाय I

आपको बता दें कि आज इन सब बातों पर इसलिए बात कि जा रही हैं क्यों कि हाल ही में प्रसिद्द अखबार द टाइम्स ऑफ़ इंडिया को कराची पकिस्तान से फ़ोन के माध्यम से दाउद इब्राहीम के बेहद नजदीकी छोटा शकील ने फोन पर बताया था कि 1993 में हुए बम धमाकों के बाद वह (दाउद) भारत वापस आना चाहता था लेकिन उस समय की सरकार इस प्रस्ताव पर राजी नहीं थी I और इसीके चलते उसने वरिष्ठ वकील राम जेठ मलानी से लन्दन में मुलाकात भी की थी और इसी खबर के जवाब में वरिष्ठ वकील राम जेठ मलानी ने कहा कि उन्होंने छोटा शकील से नहीं बल्कि दाउद से ही मुलकात की थी I

छोटा शकील ने आगे कहा था कि जब भारत में कोई नहीं सरकार आती हैं वह यही कहते हैं कि हम दाउद को पकड़ कर ले आयेंगे, घर में घुस कर लायंगे पकड़ कर उसे मैं कहता हूँ इतना आसान हैं क्या उसे पकड़ना, हलवा हैं पकड़ना, कोई बकरी का बच्चा हैं की जो जब चाहे पकड ले ? पकड़ना हैं तो उसे पकड कर लाओ (शायद उसका इशारा राजन की तरफ था )

आपको ज्ञात होगा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने लगातार यह बात कहीं हैं कि दाउद पाकिस्तान में हैं लेकिन पकिस्तान हमेशा इस बात से इनकार करता रहा हैं ! अब देखना यह कि क्या मोदी सरकार अपने इस वादे को पूरा कर पाएगी ? क्या मोदी सरकार हजारों मासूम भारतीय लोगों के कातिल को पकड़ कर भारत वापस लाने में सफल होगी या फिर पूर्व में सभी सरकारों की तरह यह भी बस एक कोरी कल्पना ही साबित होगी हमारी I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

15 − eight =