आईएफएफआई प्‍लेटफॉर्म सिनेमा की दुनिया में वैश्विक ब्रांड : श्री अरुण जेटली

0
378

वित्‍त, कॉरपोरेट मामले और सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अरुण जेटली ने कहा है कि भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म महोत्‍सव (आईएफएफआई) विशेष महत्‍व रखता है और वह सिनेमा की दुनिया में वैश्विक ब्रांड बन चुका है। इस महोत्‍सव में उत्कृष्‍टता को प्रोत्‍साहन दिया है और बेहतरीन घरेलू और अंतर्राष्‍ट्रीय प्रतिभाओं को प्रदर्शित करने का अवसर प्रदान किया है। श्री जेटली ने यह उद्गार भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म महोत्‍सव- 2015 से पहले कर्टन रेज़र संवाददाता सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए व्‍यक्‍त किए। इस अवसर पर सूचना और प्रसारण राज्‍य मंत्री कर्नल राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़, गोवा के मुख्‍यमंत्री श्री लक्ष्‍मीकांत पार्सेकर और सूचना एवं प्रसारण सचिव श्री सुनील अरोड़ा भी उपस्थित थे।

महोत्‍सव की रूपरेखा के बारे में विस्‍तार से चर्चा करते हुए श्री जेटली ने कहा कि आईएफएफआई 2015 के विश्‍व सिनेमा खंड में 89 देशों की 187 फिल्‍में दिखायी जाएंगी, जबकि भारतीय पैनोरमा खंड में 26 फीचर और 21 गैर-फीचर फिल्‍में होंगी। श्री अनिल कपूर उद्घाटन समारोह के मुख्‍य अतिथि होंगे। अंतर्राष्‍ट्रीय प्रतियोगिता खंड की ज्‍यूरी के अध्‍यक्ष श्री शेखर कपूर और अन्‍य सदस्‍यों में श्री माइकल रेडफोर्ड, सुश्री जूलिया जेंश, सुहा अर्राफ और श्री ज्‍यां क्‍यू-हवान शामिल हैं। 13 सदस्‍यों वाली फीचर ज्‍यूरी की अध्‍यक्षता श्री अरिबम श्‍याम शर्मा और 7 सदस्‍यों वाली गैर-फीचर ज्‍यूरी की अध्‍यक्षता श्री राजेंद्र जांगले थे। आईएफएफआई 2015 की उद्घाटन फिल्‍म मैथ्‍यू ब्राउन की ‘द मैन हू न्‍यू इंफिनिटी’ होगी। यह फिल्‍म भारतीय गणितज्ञ रामानुजन और प्रोफेसर जी. एच. हार्डी की दोस्‍ती की सच्‍ची कहानी पर आधारित है जिसने गणित की दुनिया को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया।

श्री अरुण जेटली ने कहा कि आईएफएफआई 2015 में फोकस देश ‘किंगडम ऑफ स्‍पेन’ होगा। फिल्‍म महोत्‍सव के दौरान स्‍पेन के दिग्‍गज फिल्‍मकार कार्लोस सारा और पेड्रो आल्‍माडोवार के साथ एलेजांद्रो एमेनाबार जैसे समकालीन फिल्‍मकारों की फिल्‍म में प्रदर्शित की जायेंगी। इस खण्‍ड में स्‍पेनिश अभिनेत्री लेटिशिया डोलेरा की बतौर निर्देशक पहली फिल्‍म ‘रिक्‍वॉयरमैंट्स टू बी ए नॉर्मल पर्सन’ भी दिखाई जायेगी। आईएफएफआई 2015 के अंतर्राष्‍ट्रीय प्रतियोगिता खण्‍ड में दुनिया भर की 15 फिल्‍में शामिल होंगी।

श्री जेटली ने आईएफएफआई 2015 की नई पहलों पर भी प्रकाश डाला। उन्‍होंने कहा कि इस साल आईएफएफआई के दौरान विशेष खण्‍ड ‘विश्‍व सिनेमा रिस्‍टोर्ड क्‍लासिक’ में फिल्‍मों के जीर्णोद्धार के विचार को उजागर किया जायेगा। इसमें राष्‍ट्रीय फिल्‍म विरासत मिशन (एनएफएचएम) को आलोकित करने के लिए कुछ क्‍लासिक फिल्‍मों का प्रदर्शन किया जायेगा। श्री जेटली ने कहा कि सिनेमा के क्षेत्र में युवा प्रतिभाओं को सम्‍मानित करने के लिए फिल्‍म महोत्‍सव में एक नया खण्‍ड ‘फर्स्‍ट कट’ भी शुरू किया जायेगा और इसमें 2015 में पहली बार फिल्‍म बनाने वाले फिल्‍मकारों की कुछ बेहतरीन फिल्‍में दिखाई जायेंगी। इस खण्‍ड में अन्‍य के अलावा ब्रायन पर्किंस (फिल्‍म-गोल्‍डन किंगडम, अमेरिका) माइकल क्‍लैट (फिल्‍म-सॉलनेस, जर्मनी) दिखाई जायेंगी। महोत्‍सव में ऑस्‍कर अकादमी के साथ मिलकर फिल्‍म निर्माण में कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए साउण्‍ड डिजाइनिंग, फिल्‍म आर्काइव और फिल्‍म संपादन जैसे विषयों पर मॉस्‍टर क्‍लासेज भी आयोजित की जायेंगी।

श्री जेटली ने कहा कि यूनेस्‍को के आदर्शों के प्रचार के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म, टेलीविजन व दृश्‍य-श्रव्‍य संचार परिषद (आईसीएफटी), पेरिस और यूनेस्‍को के साथ मिलकर आईएफएफआई 2015 में विशेष पुरस्‍कार- आईसीएफटी-यूनेस्‍को फेलिनी पुरस्‍कार भी प्रदान किया जायेगा। यह पुरस्‍कार यूनेस्‍को के शान्ति, सहिष्‍णुता, अहिंसा और मैत्री को व्‍य‍क्‍त करने वाले आर्दशों को प्रदर्शित करनी वाली फिल्‍म को दिया जायेगा। श्री जेटली ने संवाददाता सम्‍मेलन में 46 वें भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय महोत्‍सव का पोस्‍टर भी जारी किया।

सूचना एवं प्रसारण सचिव श्री सुनील अरोड़ा ने संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि आईएफएफआई एशिया का सबसे बड़ा फिल्‍म समारोह और कला एवं रचनात्‍मकता का प्रमुख मंच है। उन्‍होंने कहा कि पिछले 11 वर्षों से गोवा इस फिल्‍म महोत्‍सव के आयोजन का सबसे उपयुक्‍त स्‍थल रहा है। उन्‍होंने कहा कि इस साल महोत्‍सव में पूर्वोत्तर सिनेमा पर विशेष ध्‍यान केन्द्रित किया जायेगा और दुनिया को इस क्षेत्र के फिल्‍मकारों की बेहतरीन फिल्‍में दिखाई जायेंगी। इस खण्‍ड में पूर्वोत्तर के अगली पीढ़ी फिल्‍मकारों की फिल्‍मों के साथ-साथ अरिबम श्‍याम शर्मा पर एक विशेष पुनरावलोकन रहेगा।

आईएफएफआई 2015 फिल्‍म और सांस्‍कृतिक विविधता पर विशेष संगोष्ठि भी आयोजित की जायेगी। दर्शकों के साथ फिल्‍मों और फिल्‍म निर्माण की कला के बारे में चर्चा करने के लिए श्‍याम बेनेगल, वेट्टरीमारन, जैसे प्रमुख भारतीय फिल्‍मकारों के साथ विशेष श्रृंखला ‘इन कान्वर्सेशन’ का भी आयोजन किया जायेगा।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय के फिल्‍म समारोह निदेशालय द्वारा गोवा सरकार के सहयोग से आयोजित आईएफएफआई सिनेमा के जरिये विविध सामाजिक और सांस्‍कृतिक लोकाचारों को समझने का एक प्रयास है। एशिया के कलात्‍मक केन्‍द्रों से विश्‍व के सिनेमाई रंगभूमि तक, महोत्‍सव के स्‍थापित सिद्धांत समस्‍त प्रकार की फिल्‍मों का अन्‍वेषण, प्रचार और सहयोग है और इस प्रकार वह शैलियों, सौंदर्य बौध और विषय वस्‍तु को एक साथ लाता है। यह महोत्‍सव वैश्विक सिनेमा प्रेमियों के बीच बहुत लोकप्रिय हो चुका है।

Source – PIB

NO COMMENTS