पत्थर उत्खनन के साथ-साथ अवैध रूप से किए जा रहे ब्लास्टिंग

0
78

समस्तीपुर(ब्यूरो)- उप राजधानी दुमका के शिकारीपाड़ा प्रखंड अंतर्गत चितरागड़िया, शहरपुर, मंझलाडीह, कुलकुली डंगाल, गोसाई पहाड़ी,  काटपहाड़ी इत्यादि क्षेत्रों में अवैध रूप से संचालित पत्थर  खदानों से पत्थर उत्खनन के साथ-साथ अवैध रूप से किए जा रहे ब्लास्टिंग के विरूद्ध भाजपा के रानेश्वर प्रखंड अध्यक्ष बाबलू दत्ता ने उपरोक्त अंचल से इस व्यवसाय को अविलम्ब बंद करने का अनुरोध किया है ।

29 मार्च 2017 को उपायुक्त के नाम से  दिये गए आवेदन पर अब कोई  संज्ञान नहीं लिया गया। जब खुद के स्तर पर इसकी जानकारी आवेदक ने ली तो उसने कहा विभागीय स्तर पर कार्रवाई के लिए संबंधित विभाग को पत्र भेज दिया गया है। आवेदक श्री दत्ता  ने कहा है कि शिकारीपाड़ा अंचल के विभिन्न गाँवों के किनारे पर स्थित अवैध पत्थर खदानों में ब्लास्टिंग से आसपास के ग्रामीणों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है । अपने आवेदन में जिक्र करते हुए श्री दत्ता ने लिखा है कि खनन विभाग, दुमका द्वारा सीटीओ के अनुरूप प्रति दिन मात्र 2, 600 सीबीटी पत्थर उत्खनन का आदेश निर्गत है किन्तु खदान मालिकों द्वारा प्रतिदिन 80, 000 सीबीटी बोल्डर का उत्पादन किया जाता है।

श्री दत्ता के अनुसार प्रतिदिन  80 से 100 (10 चक्का ) गाड़ी बोल्डर का उत्पादन किया जा रहा है। आवेदन में यह भी जिक्र किया गया है कि  मशीन द्वारा ड्रिलिंग कल डायनामाइट के जरिए ब्लास्टिंग की जाती है,  ऐसे ब्लास्टिंग से जहाँ एक ओर  आसपास का गाँव दहल जाता है  वहीं ग्रामीण भूकंप के तीव्र झटके की तरह ब्लास्टिंग को सहन करने पर मजबूर हो जाते हैं । यह भी जिक्र किया है कि सरकारी नियम के अनुसार प्रति एक घनमीटर बोल्डर उठाने के एवज में बतौर रायल्टी 105 रूपये जमा करना चाहिए, किन्तु किसी के द्वारा रायल्टी चलान नहीं भरा जाता है।

इस प्रकार उपरोक्त तमाम पत्थर खदानों द्वारा रायल्टी की धज्जियाँ उड़ाकर रख दी गई है । इस क्षेत्र के थानाधिकारी व अंचलाधिकारी  सब कुछ देख कर भी चुप हैं । पत्थर खदान मालिकों के साथ सांठगांठ कर  आदिवासियों को छला जा रहा है । उपायुक्त को दिये आवेदन में अनुरोध किया गया है कि सरकार की आँखों में थूल झोंक कर शिकारीपाड़ा अंचल के विभिन्न ग्रामीण इलाकों में संचालित अवैध पत्थर उत्खनन  कार्यों को यथाशीघ्र बंद करवा कर सरकारी संपत्ति को नुकसान होने से बचाया जाय।

रिपोर्ट-कुमार आशुतोष

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY