इटावा मध्यप्रदेश की सीमा पर धड़ल्ले से हो रहा अवैध बालू खनन

0
166


इटावा : इटावा के मध्य प्रदेश की सीमा में हो रहा अवैध बालू खनन | प्रशासन की सख्त निगाहों के चलते बालू खनन माफियाओं व परिवहन चालकों में मचा हड़कंप। खनन अधिकारी सहित एसडीएम , चकर नगर क्षेत्राधिकारी ने संयुक्त अभियान के दौरान चकरनगर तहसील के अंतर्गत आधा दर्जन के करीब वाहनो का चालान काटा। उप जिलाधिकारी चकरनगर ने दूरभाष पर बताया कि अवैध बालू खनन हमारी सीमा के अंतर्गत तो नहीं हो रहा है, पर परिवहन हमारे सीमा में किया जा रहा है। जिसके चलते हमारे द्वारा गाड़ियों का पकड़ा जाना और उनका सील करना हमारे द्वारा तय किया गया है। जिसके अंतर्गत जो भी चालान किए जा रहे हैं वह जुर्म यह बन रहा है कि वह वाहन ओवरलोड मिल रहे हैं।खनन हमारे यहां नहीं हो रहा है इसलिए हम उस पर खनन प्रक्रिया की कार्यवाही करने में मजबूर हैं, और लोडिंग को लेकर हम चालान कर रहे हैं | जिसके तहत यह एडीएम इटावा के यहां जुर्माना लेकर विधि अनुकूल गाड़ियों को छोड़ते हैं।

इस संबंध में जब क्षेत्राधिकारी चकरनगर से संपर्क बनाया गया तो उनके फोन पर घंटी जाती रही लेकिन फोन रिसीव नहीं हो सका। इसके बाद इंस्पेक्टर चकरनगर ने दूरभाष पर बताया कि आज की कार्यवाही से खनन माफियाओं में भारी हड़कंप मचा हुआ है। उन्होंने मुस्कराते हुए वाणी से बताया कि आज के तहसील प्रशासन की सख्त निगाहों के चलते आज तो हालात यह रहे कि मैंने तीन-चार ट्रैक्टर और एक ट्रक को सीज किया है। इसके अलावा कुछ ट्रैक्टर जो मोरम/ बालू को चारों तरफ चोरी-छिपे पलटकर कूंचा गलियों से भागते हुए चले गए| जिन्हें पकड़ा नहीं जा सका ,और वह कार्यवाही से बच गए। भागे हुए गाड़ियों को चिन्हित किया जा रहा है। उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी।

इस संबंध में थानाध्यक्ष चकरनगर ने बताया कि यह कदम बहुत ही सुंदर है और बालू खनन हो या परिवहन हमारी सड़कों से किया जा रहा है जिसके चलते कार्यवाही की जा रही है। इसका रोका जाना अति अनिवार्य है और मैं इस बात के लिए पूर्ण रुप से मुस्तैद हूं। थाना सहसों से मिली जानकारी के अनुसार वहां पर चार ट्रेक्टर व एक जेसीबी को पाबंद किया गया है। अब आश्चर्यजनक बात तो यह है कि तहसील प्रशासन व जिला प्रशासन को गुमराह करने के लिए कुछ सफेदपोश नेता लगे हुए हैं जो सोशल मीडिया और प्रिंट मीडिया के द्वारा चलाई हुई खबरों को चैलेंज करने का प्रयास कर रहे हैं और झूठ साबित करने के लिए तरह तरह के बयान दे रहे हैं। अगर जमीनी हकीकत पर पहुंचा जाए तो यह जीता जागता उदाहरण है कि यदि बालू खनन नहीं हो रहा है परिवहन भी नहीं हो रहा है तो यह जिलाधिकारी व् बरिष्ठ पुलिस अध्य्क्ष महोदय इटावा के निर्देशन पर चलाया जारहा अभियान, सीज की जा रही गाड़ियां क्या यह मिट्टी की बनाकर या कहीं आसमान से लाकर बिधि अनुकूल प्रबिष्टियाँ जो की जा रही है क्या यह सभी फर्जी हैं? गुमराह करने वाले इन कारकों पर भी प्रशासन को नजर रखनी चाहिए और इनके खिलाफ विधि अनुकूल कार्यवाही करनी चाहिए।

रिपोर्ट – सुशील कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here