धड़ल्ले से चल रहा है जिले में अवैध खनन का धंधा

0
47
प्रतीकात्मक

बलिया(ब्यूरो)- न्यायालय व जिलाधिकारी द्वारा अवैध खनन व लाल बालू के अवैध ट्रान्सपोर्टेशन को लेकर किये जाने वाले सख्त निर्देशों का स्थानीय तहसील क्षेत्र में कोई खास असर नहीं है बल्कि यहाँ तो हवा मे हनक व धरातल पर भ्रष्टाचार वाला ही फंडा हावी है| न्यायालय व जिलाधिकारी के निर्देशों का असर अगर कहीं महसूस किया जा रहा है, तो वह सिर्फ भवन निर्माण कराने वालों तक ही सीमित है| उन्हें एक पखवारे पहले वाले लाल व सफेद बालू के लिये ट्रक व ट्राली पीछे डेढ से दो गुना अधिक के दर से खरीदना पड़ रहा है|

ऐसे मे इस आदेश व उसके हनक का खामियाजा सिर्फ और सिर्फ भवन निर्माताओं को ही भुगतना पड रहा है| ट्रक व ट्रैक्टर की ट्राली से लाल व सफेद बालू लाकर बेचने वाले एकाएक सुविधा शुल्क बढ़ जाने का ही रोना रो रहे है|  बता दे कि सती गंगा घाट के उस पार सफेद बालू का धडल्ले से खनन चल रहा है| रोज सुबह से ही दर्जनों ट्रक व ट्रैक्टर की ट्रालियो मे उस पार से इस पार लाया गया बालू कई विभागों के लिये अलग-अलग दर से सुविधा शुल्क की अदायगी कर पहुंचाया जा रहा है| ऐसा नहीं है कि यह कार्य छिप छिपा कर होता हो, खुलेआम हो रहा है| सुविधा शुल्क के नाम पर मोटी राशि वसूली जा रही है| आरम्भिक दिनों में पुलिस व अन्य विभागों ने दस ट्रक लाल बालू पकड़ कर यहाँ के हवा मे हनक बना दी| उसके बाद से उसी हनक के आड़ मे सम्बन्धित हर विभाग अपना अपना रेट तय कर दिया और हर विभाग अपने अलावा दूसरे विभाग की जिम्मेदारक नहीं ले रहा है| उधर लाल बालू पर जिला प्रशासन के रोक के बावजूद खेल जारी है| बिहार के कोइलवर से आने वाला लाल बालू द्वाबा में दो तीन रास्ते से आ रहा है| जानकारों की माने तो प्रति ट्रक लाल बालू तीन हजार रुपये लेकर पुलिस पार करा रही है, जो चर्चा का विषय बना हुआ है|

पिछले सप्ताह बालू व्यवसायियों पर दबाव बनाने के लिए बैरिया पुलिस ने दस ट्रक बालू पकड़ कर सीज किया था| जब इतनी सख्ती है तो फिर लाल बालू का प्रवेश शुरू कैसे हुआ ? लाल बालू निरन्तर प्रवेश बैरिया कैसे कर पा रहा है ? बताते है कि बैरिया थाना क्षेत्र के बिहार से मांझी पुल के रास्ते ट्रक से बालू आ रहा है, तो वही गंगा नदी के रास्ते लाल बालू महुली घाट पर आता है| वहां से दोकटी थाना क्षेत्र के रामपुर कोड़हरा में जमा कर इलाके में आपूर्ति होती है| वही शिवपुर घाट , सत्ती घाट पर बालू उतार कर पुलिस की मिलीभगत से कारोबार चल रहा है| पुलिस ट्रक व ट्रैक्टर पीछे मुंहमांगा वसूली कर रही है| ऐसा इस धन्धे से जुडे कारोबारियों व ट्रक तथा ट्रैक्टर चालकों का आरोप है| इसके अलावा अन्य सम्बन्धित विभाग से भी लोग जो भी मांग दे रहे हैं, वहीं देकर पिण्ड छुड़ाना पड रहा है| इस बाबत जब उपजिलाधिकारी बैरिया से मोबाइल पर सम्पर्क कर जानकारी प्राप्त करने का प्रयास किया गया तो उनके दोनों नम्बर कवरेज एरिया से बाहर थे|

रिपोर्ट – संतोष कुमार शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here