सरकारी कर्मचारियों की मिली भगत से चारागाह पर अवैध कब्जा

0
210

avaidh makan

रायबरेली (ब्यूरो)- महराजगंज कोतवाली क्षेत्र के कोटवा मदनियां गांव में बीती रात हल्का लेखपाल की मिली भगत के चलते चारागाह की जमीन पर एक दबंग भूमाफिया ने एक मकान का निर्माण कराकर पक्की छत भी डाल ली है। लेकिन तहसील प्रशासन का कोई भी सक्षम अधिकारी मौके पर नही गया। जिससे ग्रामीणों में आक्रोष व्याप्त है। ग्रामीण तहसील प्रशासन पर पैसे लेकर छत डलवाने का आरोप लगा रहे है।

महराजगंज क्षेत्र के जूड़ा का पुरवा मजरे कोटवा मदनिया गांव निवासी ओरीलाल पुत्र रामस्वरूप पक्की रोड़ पर स्थित चारागाह की बेस कीमती जमीन पर विगत 15 दिन पूर्व निर्माण कार्य करवा रहा था। जिसकी शिकायत ग्राम प्रधान शत्रोहन लोधी ने उपजिलाधिकारी मदन कुमार से लिखित रूप से की थी। मामले को गम्भीरता से लेते हुए उपजिलाधिकारी ने एक टीम गठित कर मौके पर जाकर काम रोकवाने के सख्त निर्देश दिये थे और राजस्व की टीम ने मौके पर जाकर काम रोकवा दिया है लेकिन बीती रात ओरीलाल ने हल्का लेखपाल रूपेश मौर्या के दो प्राइवेट कर्मचारियों ने दबंग भूमाफिया से एक मोटी रकम लेकर चारागाह की जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण पर छत डलवा दी।

सुबह होने पर जब घटना की जानकारी ग्राम प्रधान सहित ग्रामीणों को हुई तो गांव में हड़कंप मच गया और हर कोई यही कह रहा है कि हल्का लेखपाल व उनके दो प्राइवेट कर्मचारियों ने पैसा लेकर छत डलवा दी है। जिससे तहसील प्रशासन पर सवालियां निशान उठ रहे है। उपजिलाधिकारी मदन कुमार का कहना है कि शिकायत मिली थी काम रोकवा दिया गया था छत पड़ने की जानकारी नही है जांच कराकर अवैध निर्माण गिरवाया जायेगा।
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY