डेंगू से बचाव के लिए मुख्य चिकित्साधिकारी ने दिये महत्वपूर्ण सुझाव

0
111

बहराइच (ब्यूरो) मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि बारिश का मौसम आ चुका है जगह-जगह जल भराव होगा ऐसे में मच्छर जनित बीमारी, डेंगू होने की प्रवल सम्भावना है। उन्होंने बताया कि जनपद डेंगू से प्रभावित जिलों में आता है ऐसे में इस बीमारी से बचाव के लिए लोगों में जागरूकता आवश्यक है।

उन्होंने बताया कि अकस्माज तेज सिर दर्द व बुखार का होना, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना, आंखों के पीछे दर्द होना, जो कि आंखों को घुमाने से बढ़ता है, जी मिचलाना एवं उल्टी होना तथा गम्भीर मामलों में नाक, मुंह, मसूड़ों से खून आना अथवा त्वचा पर चकत्ते उभरना आदि डेंगू के लक्षण हैं।

उन्होंने बताया कि डेंगू फैलाने वाला मच्छर खड़े हुए साफ पानी में पनपता है। कहीं आपके घर में या आस-पास जैसे कि कूलर, पानी की टंकी, पक्षियों के पीने के पानी का बर्तन, फ्रिज की ट्रे, फूलदान, नारियल का खोल, टूटे हुए बर्तन व टायर आदि में पानी जमा नहीं होने दें। साथ ही पानी से भरे हुए बर्तन व टंकियों आदि को ढक कर रखें, कूलर को खाली करके सुखा दें। यह मच्छर दिन के समय काटता है। ऐसे कपड़े पहनें जो बदन को पूरी तरह ढ़के। डेंगू के उपचार के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन नहीं है। बुखार उतारने के लिए पैरासीटामाल लिया जा सकता है। एस्प्रीन या इबुब्रेफेन का इस्तेमाल अपने आप ना करें, डाक्टर की सलाह अवश्य लें। डेंगू के हर रोगी को प्लेटलेट्स की आवश्यकता नहीं पड़ती है। 
                 
रिपोर्ट – राकेश मौर्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here