व्यापम मामले में हुआ पहली सजा का ऐलान, दो आरोपियों को सुनाई गयी पाँच-पाँच साल की सजा

0
220

व्यापम (मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा) मंडल में हुए भर्ती घोटाले के दो आरोपियों को शनिवार को खंडवा जिले की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने सजा सुनाई हैं इन दोनों आरोपियों को पाँच-पाँच वर्ष की सजा सुनाई गयी हैं I मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2004 में व्यापम में हुए फर्जीवाड़े के तहत इन आरोपियों को दण्डित किया हैं I

आपको बता दें कि व्यापम के तहत होने वाली वर्ष 2004 की PMT परीक्षा में हुए घोटाले में अरुण कुमार और देवेन्द्र कौशल को आरोपी बनाया गया था और इसी मामले में कोर्ट ने इन दोनों ही आरोपियों को पाँच-पाँच साल की सजा सुनाई हैं I आपको बताते चलते हैं कि इस बहु चर्चित घोटाले में यह दोनों ही पहले अपराधी हैं जिन्हें अभी तक सजा सुनायी गयी हैं I

आपको बता दें कि राज्य व्यापम के तहत अनेकों अनेक तरह की भर्ती होती हैं और इन्ही परीक्षाओं में व्यापक स्तर पर प्रदेश में गड़बड़ी हुई थी और इस गड़बड़ी के खुलासे के बाद यह पता चला कि यह घोटाला तो एक बहुत बड़े स्तर पर हो रहा था I इस घोटाले के खुलासे के बाद इसकी जांच सबसे पहले एस.टी.एफ. के हाथों सौंपी गयी थी लेकिन उसमें कोई बड़ी सफलता मिलती न देख मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने एस.आई.टी. का गठन कर उसकी निगरानी में एस.टी.एफ. की जांच को जारी रखा I उसके बाद इस पूरे प्रकरण में नया मोड़ तब आ गया जब देश के एक प्रतिष्ठित पत्रकार की अचानक मौत हो गयी और उसके अलावा भी लगातार कई मौते हो गयी तब इन देश की सर्वोच्च न्यायलय ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के आग्रह पर और अदालत में दी गयी अर्जियों पर सुनवाई करते हुए इस बहुचर्चित घोटाले की जिम्मेदारी अपनी देख रेख में सीबीआई को सौंप दी I

आपके लिए यहाँ पर यह जानना अत्यंत आवश्यक हैं कि इस पूरे मामले में अभी तक तक़रीबन 47 लोगों की मौते संदिग्ध हालातों में हो चुकी हैं और एस.टी.एफ. ने सीबीआई जांच के आने से पहले तक इस पूरे मामले में 55 केस दर्ज कर चुकी हैं I इस बड़े घोटाले में अब तक 2100 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी हैं और 491 आरोपी अभी भी फरार हैं

अखंड भारत परिवार बेहतर भारत निर्माण के लिए प्रयासरत है, आप भी इस प्रयास में फेसबुक के माध्यम से अखंड भारत साथ जुड़ें, आप अखंड भारत को ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं |

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

seventeen − 16 =