राष्ट्रपति के जिले मे आये दिन जल रही फसले अफसर महज अफसोस जता कर हो जाते है मौन

कानपुर देहात (ब्यूरो) –  भारत के राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविन्द जो एक किसान गरीब परिवार के थे उनके जनपद मे आये दिन फसले जल कर खाक हो रही है अधिकारी इस मामले मे अफसोस जता कर मुवावजे के नाम 10 वां हिस्सा तक नही दे पा रहे है यही नी आग पर काबू पाने वाला तंत्र आधी अधूरी ब्यवस्थाओ व मुठ्ठी भर स्टाफ के साथ आग की लपटो को थामने मे लगा है इस जनपद के पिछले रिकार्ड की बात करते तो सबसे अधिक फसल जलने की घटनाए हुए यही नही दूसरी घटना बिना एनओसी बिना ब्यवस्थाओ के संचालित फैक्टरी की घटना तीसरे चक्र की घटना गृहस्थी जलने की है आज भी यदि अप्रैल की घटनाओं पर प्रकाश डाले तो फसल जलने कीसबसे अधिक घटनाएं है प्रशासनिक रिकार्ड मे घटनाओं के बारे मे सारे कारण ज्ञात होने के बाद भी निस्तारण नही हो पा रहा|

किसान रो उठा है राष्ट्रपति के जनपद मे किसान की फसले धू धू कर जलती रहे अफसर अफसोस जताते रहे यह खेद का विषय है अग्निशमन विभाग मे अधूरी सुविधाओं के चलते समय से दमकल गाडी घटना स्थल पर न पहुँचना मुसीबत है हलाकि पुलिस अधीक्षक ने हाल ही मे अग्निशमन विभाग के मुख्यालय लखनऊ आईजी अग्निशमन को पत्र भेज समुचित वाहनो व सम्पूर्ण स्टाफ के साथ नियमों का उल्लंघन कर गैर जनपद मे सम्बद्ध फोर मैनो को मूल स्थानो पर भेजने की बात पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया है जिससे जनपद के सभी तहसीलो प्रमुख चिन्हाकिंत स्थलो पर दमकल की गाडी स्टाफ के साथ व्यवस्थित की जाये|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here