रायबरेली रोड स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर मीजल्स रूबेला कार्यक्रम का उद्घाटन

0
34

महराजगंज/रायबरेली : महराजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ राधाकृष्णन ने सोमवार को रायबरेली रोड स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर मीजल्स रूबेला कार्यक्रम का उद्घाटन किया। उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बीजेपी के जिला मंत्री जन्मेजय सिंह, विशिष्ट अतिथि सूर्य प्रकाश वर्मा जिला आर्थिक सपोर्ट संयोजक व राजेंद्र मौर्य जिला कार्यकारिणी समिति के सदस्य मौजूद रहे। अधीक्षक डॉ राधाकृष्णन ने आए हुए अतिथियों को बुकेट भेंट कर सम्मानित किया।

आपको बता दें कि, अधीक्षक डॉ राधाकृष्णन ने मीडिया से रूबरू होकर बताया कि, मीजल्स रूबेला जैसी खतरनाक बीमारी से बच्चों के बचाव के लिए टीकाकरण अभियान का शुभारंभ किया गया है यह अभियान क्षेत्र में लगातार 5 हफ्ते तक चलाया जाएगा। आज अलीपुर एवं हलोर क्षेत्र के 15 विद्यालयों में बच्चों का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि इससे पहले प्रदेश में शुरू किया गया टीकाकरण अभियान इंसेफेलाइटिस से बच्चों की मौत में कमी आई है। इसलिए यह अभियान कारगर सिद्ध हो रहा है। उसी को देखते हुए पूरे प्रदेश में मीजल्स रूबेला का सघन अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों का मीजल्स रूबेला जैसी खतरनाक बीमारियों से प्रतिरक्षण किया जाएगा। यह अभियान 5 सप्ताह चलेगा जिसमें शिक्षा एवं स्वास्थ्य कल्याण विभाग की भी अहम भूमिका रहेगी।

इस मौके पर बतौर मुख्य अतिथि बीजेपी के जिला मंत्री जन्मेजय सिंह ने कहा कि, मीजल्स रूबेला जैसी खतरनाक बीमारी से देश को मुक्त कराने के लिए हम सभी को इस अभियान का हिस्सा बनना है। उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ वर्षों में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इंसेफेलाइटिस से मुक्त के लिए प्रदेश के 38 जिलों में अभियान चलाया था। जिसमें महिला एवं बाल विकास विभाग, परिवार कल्याण विभाग व पंचायती राज्य सहित कई विभागों ने भागीदारी की थी।

बीजेपी के जिला मंत्री जन्मेजय सिंह ने आंकड़ों का जिक्र करते हुए कहा कि, योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र में पिछले 25 वर्षों से गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ही हर वर्ष इंसेफेलाइटिस से पीड़ित 500 से 600 बच्चे भर्ती होते थे। जिसमें से हर वर्ष करीब 125 से 150 बच्चों की मौत हो जाती थी। विभागों के द्वारा सामूहिक रूप से काम करने का परिणाम यह है कि, इस वर्ष 86 बच्चे ही मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुए और सिर्फ 6 बच्चों की मौत हुई। यह आंकड़े बताते हैं कि, अगर प्रदेश के सभी विभाग मीजल्स रूबेला बीमारी के खिलाफ अभियान में सक्रियता से भागीदारी करे तो बच्चों को इन बीमारियों से मुक्त कराया जा सकता है।

वहीं मीजल्स रूबेला कार्यक्रम उद्घाटन समारोह के उपरांत अधीक्षक डॉक्टर राधाकृष्णन से मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल कि, क्षेत्र में इस बार मच्छरों का प्रकोप कुछ ज्यादा ही दिखाई दे रहा है। इसके रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम क्या कदम उठा रही है। तो उस पर अधीक्षक डॉ राधाकृष्णन ने बताया कि, मच्छरों की रोकथाम के लिए छिड़काव करने वाली दवा डेमो फास विकास खंड कि 53 ग्राम सभाओं के लिए 1 लीटर प्रति ग्राम सभा के हिसाब से विकास खंड अधिकारी को स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा उपलब्ध करा दी गई है वहीं नगर पंचायत महराजगंज को भी 15 लीटर दवा उपलब्ध करा दी गई है।

उन्होंने छिड़काव की मात्रा 15ml दवा प्रति 10 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करने की बात बताई है। इस हिसाब से समस्त विकासखंड क्षेत्र के लिए पर्याप्त मात्रा में दवा उपलब्ध करा दी गई है। बावजूद इसके की मीडिया ने जब ग्राम सभाओं में पता लगाया तो, यह पता चला है कि, यह दवा सिर्फ कुछ ही ग्राम सभाओं में छिड़काव की गई है। ज्यादातर ग्राम सभाओं में इस दवा का छिड़काव नहीं करवाया गया है। जबकि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जो दवा मुहैया कराई गई है वह दवा बहुत अधिक मात्रा में है। अब आप सब इसी बात से अनुमान लगा सकते हैं कि सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ के लाख प्रयासों के बावजूद भी ग्राम प्रधान से लेकर ब्लॉक तथा जिले तक के आलाधिकारी लोगों के स्वास्थ्य के प्रति कितने चिंतित दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में सरकार का स्वस्थ भारत अभियान का सपना कैसे पूरा होगा?

इस मौके पर बृजेश श्रीवास्तव, शिवाकांत तिवारी बीसी पीएम, कमल श्रीवास्तव बीपीएम, हरीश श्रीवास्तव, प्राची, बृजेश, विष्णु एवं दर्जनों की संख्या में नर्स, आशा बहुएं उपस्थित रही।

रिपोर्ट – मोनू अवस्थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here