उत्पादकता को बढ़ाना वैज्ञानिकों के लिए चुनौती : वीसी

0
181

DR. RAMESH CHANDRA SHRIVASTVA vc

समस्तीपुर (ब्यूरो)- डा.राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने किसानो के हित के लिए कई योजनाओ पर काम करना शुरू कर दिया है| यहां कर्यरत कृषि वैज्ञानिको के लिए यह एक चुनौती भरा कार्य है कि बदलते मौसम के मिजाज में किस तरह खेती से किसानो को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुच सके|

इसी उद्देश्य को लेकर विश्वविद्यालय कुलपति डा. रमेश चन्द्र श्रीवास्तव ने वैज्ञानिको से भी कहा है कि बदलते मौसम मे फसलो की उत्पादकता को दोगुनी करना वैज्ञानिको के लिए एक बड़ा टास्क है| इसके लिए वैज्ञानिक आपसी तालमेल से किसानों की जरूरतों के अनुरूप शोध की दिशा तय करें| वे सोमवार की शाम विश्वविद्यालय के संचार केन्द्र में वैज्ञानिको को संबोधित कर रहे थे| मौका था मौसम के बदलते परिवेश में कृषि प्रौद्योगिकी का महत्व विषय पर वैज्ञानिको के 21 दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम के उदघाटन समारोह का| कुलपति ने कहा कि लगातार मौसम मे बदलाव से किसान परेशान है| ऐसे में वैज्ञानिकों का कार्य काफी बढ़ गया है| उन्होने सिंचाई के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि खेती मे इसका काफी महत्व है|

इस संसाधन को सस्ता व सरल बनाने की जरूरत है| उन्होने कृषि में सब्जी व बागवानी पर जोर देते हुए कहा कि किसानों के उत्पादकता के साथ उसके शुद्ध लाभ बढ़ाने की जरूरत है| कोर्स डायरेक्टर सह डीन डा. मदन सिंह ने कहा कि शिक्षको व वैज्ञानिको केा निरंतर ज्ञान को अपडेट करते रहने की जरूरत है ऐसे में वैज्ञानिको का यह प्रशिक्षण काफी लाभकारी साबित होगा| संचालन धान के प्रधान वैज्ञानिक डा. एनके सिंह एवं धन्यवाद डा. सत्यप्रकाश ने किया| मौके पर डीन डा. एसके वाष्र्णेय, डा. एसपी सिंह, डा. एससी राय, डीआर राय, डा. जेपी उपाध्यक्ष, एडीआर डा. मिथलेश कुमार, डीईई डा. केएम सिंह, डीएसडब्लू डा. एके मिश्रा, डा. अशोक कुमार सिंह, डा. देवेन्द्र सिंह,डा. आरसी प्रसाद,डा. एम.एल यादव,उषा सिंह,विमल राय,डा.अरुणिमा थे|
रिपोर्ट-आर. कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY