चीन के दावे को भारत ने सिरे से किया ख़ारिज, कहा – हम चीन के साथ नहीं और चीन को अंतर्राष्ट्रीय अदालत के जजमेंट का सम्मान करना चाहिए –

0
258

vikas

दिल्ली- आज भारत ने चीन के उस दावे को ख़ारिज कर दिया है जिसमें चीन ने यह कहा था कि दक्षिण चीन सागर के मुद्दे पर भारत चीन के साथ है | भारत ने साफ़ कर दिया है कि दक्षिण चीन सागर के मुद्दे पर भारत किसी के भी साथ नहीं है | भारतीय विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने कहा है कि यह एक कानूनी मामला है और भारत चूँकि यूनाइटेड नेशन द्वारा मान्यता प्राप्त इस संस्था का सदस्य देश है इसीलिए अदालत के द्वारा दिए गए फैसले के साथ है |

भारत अदालत के द्वारा दिए गए निर्णय का सम्मान करता है –
भारत ने साफ़ कर दिया है कि यह कोई राजनैतिक मामला नहीं है जहां पर किसी के साथ या फिर किसी के विरोध करने की बात हो | विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने कहा है कि भारत यूएनसीएलओएस का सदस्य देश है और यूएनसीएलओएस का सदस्य देश होने के नाते भारत की स्थित बिलकुल स्पष्ट है और भारत इसके सदस्य सभी देशों से अपील करता है कि उन्हें संस्था का पूर्ण रूप से सम्मान करना चाहिए | क्योंकि इसी संस्था ने पूरी दुनिया में महासागरों पर अंतर्राष्ट्रीय कानून तय किये है |

दक्षिण चीन सागर मसले पर भारत और जापान शांतिपूर्ण हल चाहते है –
भारत और जापान के रक्षामंत्रियों की संयुक्त बैठक में यह कहा गया है कि भारत और जापान दक्षिण सागर के मुद्दें पर सभी पक्षों से शांतिपूर्ण तरीके से हल करें | भारत के रक्षामंत्री श्री मनोहर परिर्कर और जापान के रक्षामंत्री के बीच हुई मुलाकात के बाद कहा गया है कि सभी देशों को अंतर्राष्ट्रीय अदालत के द्वारा दिए गए जजमेंट का सम्मान करना चाहिए | साथ ही द्रढ़ता पूर्वक भारत के रक्षा मंत्री श्री मनोहर परिर्कर और जापान के रक्षा मंत्री जनरल नकातानी ने कहा है कि धमकियाँ और बल प्रयोग की बातें करना बंद कर देना चाहिए यह निरर्थक है इनका कोई मतलब नहीं है |

 

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here