मिसाइल क्षेत्र में चीन और पाकिस्तान को पीछे छोड़ भारत बनेगा सुपर पॉवर

0
4878

दिल्ली- चीन और पाकिस्तान को पीछे छोड़ आज भारत MTCR (मिसाइल टेक्नोलॉजी कण्ट्रोल रिजीम) समूह में शामिल हो जायेगा | 34 देशों के इस समूह में शामिल होना भारत के लिए एक बड़ी कामयाबी होगी, इस समूह में शामिल होने के बाद भारत दुनिया के 2 अन्य समूहों ऑस्ट्रेलियन ग्रुप और वास्सेनार एग्रीमेंट में भी शामिल होने का प्रयास करेगा | इसके साथ ही भारत जैसे ही एमटीसीआर का सदस्य बन जाएगा उसके बाद भारत दुनिया के सभी प्रमुख मिसाइल निर्माता देशों के साथ अपनी मिसाइल टेक्नोलॉजी को साझा कर सकेगा |

चीन और पाकिस्तान इस समूह के सदस्य देश नहीं –
एमटीसीआर में दुनिया के शक्तिशाली मिसाइल निर्माता 34 देश शामिल है और इस ग्रुप में चीन और पाकिस्तान को अभी तक शामिल नहीं किया गया है | इस ग्रुप की स्थापना 1987 फ्रांस, जापान, ब्रिटेन, अमेरिका, इटली और कनाडा ने मिलकर की थी | इस समूह में आखिरी बार वर्ष 2004 में बुल्गारिया को शामिल किया गया था इसके बाद दुनिया के किसी भी और देश को इस समूह में अभी तक शामिल नहीं किया गया है |

इसे भी पढ़ें –अगर पाकिस्तान की ओर से एक भी गोली चली तो भारत गोलियों का हिसाब नहीं रखेगा : राजनाथ सिंह

औपचारिक रूप से आज शामिल होगा भारत –
34 देशों के समूह MTCR में भारत आज औपचारिक रूप से शामिल होगा | भारत के विदेश सचिव एस जय शंकर फ्रांस, नीदरलैंड और लक्ज़मबर्ग के राजदूतों की मौजूदगी में MTCR की सदस्यता पर साइन करेंगे |

एमटीसीआर (MTCR) से भारत को होने वाले फायदे-
एमटीसीआर का सदस्य बनने के बाद भारत अमेरिका से मानव रहित ड्रोन खरीद सकेगा | इसके अलावा भारत खुद दुनिया की सबसे तेज मिसाइल को दुनिया भर के देशों को बेंच कर अरबो रूपये कमा सकता |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY