हिंदमहासागर में बढ़ेगा भारत का दबदबा- साल के अंत तक नौसेना में शामिल हो जाएँगी ये पांडुब्बियाँ

0
737


नई दिल्ली : पिछले साल आस्ट्रेलिया के एक अख़बार द्वारा डाटा लीक की ख़बर प्रकाशित होने के मामले को दरकिनार करते हुए नौसेना ने छह स्कॉर्पीन पनडुब्बियों को अपने बेड़े में शामिल करने की समय सीमा तय कर दी है। आपको बता दें कि फ्रांसीसी डिजाइन वाली इस पांडुब्बियों में से 2 पांडुब्बियाँ तो इसी वर्ष के अंत तक नौसेना के बेड़े में शामिल हो जाएंगी।

सूत्रों की माने तो पहली अत्याधुनिक पनडुब्बी पनडुब्बी आइएनएस कल्वारी इस वर्ष के मध्य तक नौसेना के बेड़े में शामिल हो जाएगी। पनडुब्बियों का निर्माण मुंबई के मझगांव डकयार्ड लिमिटेड में हो रहा है। 3.5 अरब डॉलर (233,547,475,000 रुपये) की लागत वाली पी-75 परियोजना के तहत फ्रांसीसी रक्षा कंपनी डीसीएनएस के सहयोग से यह निर्माण किया जा रहा है।

प्राप्त जानकारी के आधार पर बताया जाता रहा है दूसरी पनडुब्बी खांडेरी इस वर्ष के अंत तक नौसेना के बेड़े में शामिल की जाएगी। इसके बाद नौ महीने के अंतराल पर अन्य पनडुब्बियां शामिल की जाएंगी। हिंद महासागर में चीनी नौसेना के विस्तार को देखते हुए इन पनडुब्बियों को शामिल किया जाना महत्वपूर्ण है। इससे भारतीय नौसेना की ताकत बढ़ेगी।

ग़ौरतलब है कि अगस्त में पनडुब्बी की क्षमता से संबंधित 22000 पृष्ठों का गोपनीय आंकड़ा लीक हो गया था। आस्ट्रेलिया के एक अखबार ने अपनी वेबसाइट पर ब्योरा पेश किया था। इस लीक से पनडुब्बी की गोपनीय क्षमता को नुकसान पहुंचने की आशंका पैदा हो गई थी।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY