वर्ल्ड हॉकी लीग में भारत ने कांस्य पदक जीता |

0
240

 

indian hockeyवर्ल्ड हॉकी लीग फ़ाइनल्स में भारत ने वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर दो डच टीम नीदरलैंड्स को शूट-आउट में 3-2 से हराकर कांस्य पदक जीत लिया है । मैच 5-5 की बराबरी पर रहा, जिसके बाद शूट-आउट से मैच का फ़ैसला हुआ। इसमें भारत ने 3-2 से जीत हासिल की ।
मुकाबले की शुरुआत में नीदरलैंड की टीम इंडिया पर हावी दिखी। 9वें मिनट में नीदरलैंड्स की टीम की ओर से मिक्रो प्रूइज़्सर ने गोल किया, यहां भारतीय टीम का डिफ़ेंस काफ़ी ख़राब रहा। इसके बाद 25वें मिनट में निक स्यूट ने एक और गोल करके मैच में 2-0 की बढ़त की बढ़त बना ली । इसके बाद भारत की ओर से कई बार अटैक हुए, लेकिन कोई गोल में तब्दील नहीं हो सका।
रमनदीप सिंह ने तीसरे क्वार्टर में मनप्रीत सिंह के शानदार पास पर गोल करके अंतर को कम किया, इसके बाद रूपिंदर पाल सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदल कर मैच को बराबरी पर ला दिया। चौथे क्वार्टर में भारत के रमनदीप ने टूर्नामेंट में अपना दूसरा गोल कर मैच में भारत को 3-2 की बढ़त दिला दी। जिसके बाद नीदरलैंड्स की टीम के मार्क वेन डर विर्डेन ने पेनल्टी में गोलकर 3-3 से बराबर कर दिया। रुपिंदर पाल ने एक और गोल कर मैच में भारत को एक बार फिर से बढ़त दिला दी ।
चौथे क्वार्टर में भारत की बढ़त 4-3 की हो गई। मैच ख़त्म होने से 4 मिनट पहले आकाशदीप सिंह ने एक शानदार गोल बनाया। इस गोल के साथ ही भारतीय टीम ने 5-3 की बढ़त के साथ ही कांस्य पदक पर नज़र टिका लिया। लेकिन आख़िर के कुछ मिनटों में नीदरलैंड्स की टीम उम्दा प्रदर्शन करते हुए मैच को 5-5 की बराबरी पर ले आई । इसके बाद मैच के फ़ैसले के लिए शूटआउट का इस्तेमाल किया गया।
शूटआउट में नीदरलैंड्स ने पहले शॉट में ही पहला गोल किया, लेकिन भारत का पहला और दूसरा शॉट नाकाम रहा। रेफ़री ने इसे गोल नहीं दिया। इसके बाद रेफ़री ने नीदरलैंड्स का भी दूसरा और तीसरा शॉट ग़लत करार दिया। फिर दोनों टीमों ने एक-एक गोल कर शूटआउट में रोमांच पैदा कर दिया। भारत ने अपने चौथे शूट-आउट में गोल बनाया और मैच 2-2 की बराबरी पर आ गया। भारत को आख़िरी शॉट में नीदरलैंड्स के गोलकीपर के फ़ाउल का फ़ायदा मिला और रेफ़री ने भारत को पेनल्टी स्ट्रोक दिया। इसमें रुपिंदर पाल ने गोल बनाया, जिसकी बदौलत भारत ने 3-2 से मुकाबला और कांस्य पदक अपने नाम कर लिया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

2 − 1 =