भारतीय फौजियों ने बिना ओक्सीजन सिलेंडर के ही कर लिया एवेरेस्ट फतह, दुनिया में पहली बार हुआ यह कारनामा

0
186

काठमांडू/नई दिल्ली – भारतीय सेना पूरी दुनिया में अपनी बहादुरी और मुश्किल से मुशकिल चुनौती को को आसानी से हासिल करने के लिए जानी जाती है | इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है | भारतीय सेना के जवानों ने बिना किसी सप्लीमेंट्री ऑक्सीजन की मदद के ही दुनिया की सबसे ऊँची पर्वत चोटी एवेरेस्ट को फतह कर लिया है | दुनिया में यह पहली बार हुआ है जब कोई टीम बिना किसी सप्लीमेंट्री ऑक्सीजन के ही एवेरेस्ट पर पहुंची हो | हालाँकि आपको यह भी बता देते है कि ब्याक्तिगत तौर पर यह कारनामा 187 लोग पहले कर चुके है |

बताते चले कि यह कामयाबी कुंचोक तेंदा, केलशांग दोर्जी भूटिया, कालदेन पांजुर और सोनम फुंत्सोक की टीम को मिली है | 14 पर्वतारोहियों के इस दल में उर्गिन तोपग्ये, एंगवांग गेलेक और कर्मा जोपा सप्लीमेंट्री ऑक्सीजन के साथ एवरेस्ट पर पहुंचे |

स्नो लॉयन एवरेस्ट एक्सपेडिशन-2017 के लीडर कर्नल विशाल दुबे ने न्यूज एजेंसी को बताया, “हमनें ऑक्सीजन सिलेंडर बगैर एवरेस्ट फतह करने के लिए 10 लोगों की टीम बनाई थी। इनमें से चार मेंबर को हम बिना ऑक्सीजन सिलेंडर के एवरेस्ट पर भेजने में कामयाब हो गए।”

इतिहास रचने की तमन्ना से शुरू की थी चढ़ाई-
आपको बता दें कि इस पूरे मिशन के मुखिया कर्नल विशाल ने कहा है कि पहली बार कोई टीम एवेरेस्ट पर बिना किसी ऑक्सीजन सिलेंडर के फतह के लिए जा रही थी | हम दुनिया में एक मिशाल कायम करना चाहते थे और इतिहास रचना चाहते थे, ईश्वर ने हमें उसमें कामयाबी मिली है |

अब तक केवल 4000 लोगों ने किया है एवेरेस्ट फतह-
आपको यह भी बता देते है कि जब से एवेरेस्ट पर चढ़ने की उसे फतह करने की मुहीम शुरू हुई है तब से लेकर आजतक महज 4000 लोगों ने ही एवेरेस्ट को सफलतापूर्वक फतह किया है | यदि हम बात बिना ऑक्सीजन के फतह की बात करें तो ऐसा करने वाले महज 187 लोग ही और उन्होंने ब्याक्तिगत तौर पर ऐसा किया है | एक टीम के तौर पर पहली बार भारतीय सेना के जवानों ने यह कीर्तिमान अपने नाम किया है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here