251 रुपए के स्मार्टफोन पर मोबाइल उद्योग की आपत्ति, सरकार को पत्र लिखकर जताई नाराजगी

0
653

नई दिल्ली-  मोबाइल हैंडसेट उद्योग का निकाय आईसीए ने 251 रुपए की कीमत वाला स्मार्टफोन पेश किये जाने पर चिंता जताते हुए दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद को पत्र लिखकर मामले की गहराई में जाने का आग्रह किया है। संगठन का कहना है कि सब्सिडीयुक्त दर पर भी मोबाइल हैंडसेट की कीमत किसी भी हालत में 3,500 रुपए से कम नहीं हो सकती।

इंडियन सेल्यूलर एसोसिएशन (आईसीए) ने यह भी कहा कि जबतक मामले को लेकर चीजें साफ नहीं हो जाती हैंडसेट पेश किए जाने के कार्यक्रम में वरिष्ठ राजनेता और सरकारी नेतृत्व को उपस्थित होना ठीक नहीं है और उसे विवाद में नहीं पड़ना चाहिए। नोएडा की रिंगिंग बेल्स ने देश का सबसे सस्ता स्मार्टफोन पेश करने की घोषणा की है जिसकी कीमत 251 रुपए है। कंपनी के अनुसार 3जी हैंडसेट फ्रीडम 251 में 4 इ’च का डिस्प्ले, क्वालकॉम, 1.3 गीगाहर्टज क्वाड कोर प्रोसेसर और एक जीबी का रैम है। कंपनी के इस कदम से मोबाइल हैंडसेट बाजार को झटका लग सकता है।

पत्र में कहा गया है कि अगर सबसे सस्ती आपूर्ति श्रृंखला से भी इस प्रकार के उत्पाद की सामग्री ली जाए तो उसकी कीमत करीब 40 डालर (2,700 रुपए) बैठती है। आईसीए के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज महेंद्रू ने पत्र में लिखा है कि इसे जब खुदरा बाजार में लाया जाएगा तो शुल्क, कर, वितरण और खुदरा मार्जिन को जोड़ने पर इसकी कीमत कम-से-कम 4,100 पड़ेगी जबकि कंपनी स्मार्टफोन 251 रुपए में बेचने की घोषणा की है।

उन्होंने यह भी कहा कि अगर हैंडसेट को कम मार्जिन पर ई-वाणिज्य तरीके से बेचा जाए तो भी कीमत 52 से 55 डालर (करीब 3,500 से 3,800 रुपए) बनती है। पत्र में संबद्ध अधिकारियों को मामले की गहराई में जाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है और कहा कि आईसीए जरूरत पड़ने पर हर प्रकार की तकनीकी सहायता उपलब्ध कराएगा।
 
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here