थलसेना को अफसर देने की श्रेणी में आज भी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड का जलवा है बरकरार…

0
479
इंडियन मिलिट्री अकेडमी
इंडियन मिलिट्री अकेडमी

प्रत्येक छह माह पर इंडियन मिलिट्री एकेडमी के द्वारा देश को मिलने वाले युवा सैन्य अधिकारियों की फौज से बात का अंदाजा लगाया जा सकता है की किस प्रदेश के द्वारा प्रतिवर्ष कितने सैन्य अफसर सेना को किस प्रदेश को दिए जाते हैं I आकड़ों से आधार पर प्राप्त जानकारी के अनुसार इस भी पिछली बार की तरह उत्तर प्रदेश ने ही बाजी मारी है I

शनिवार को इंडियन मिलिट्री अकेडमी में होने वाली पासआउट परेड में इस बार भी उत्तरप्रदेश पहले स्थान पर ही बरक़रार हैं, अकेले उत्तर प्रदेश से ही 100 युवा सैन्य अफसर सेना की इस पास आउट परेड में हिस्सा लेंगे I उत्तरप्रदेश के बाद हरियाणा से इस बार 64 पास अफसर पास आउट होंगे I वहीं इस बार कि पास आउट परेड में उत्तराखंड एक स्थान नीचे फिसलकर अपने 60 अफसरों के साथ तीसरे स्थान पर हैं I

पिछले वर्ष दिसंबर में उत्तराखंड के 51 जवान पास आउट होकर सेना में अधिकारी बने थे I और कुल मिलाकर पिछले पांच सालों में इंडियन मिलिट्री एकेडमी से प्रदेश के छह सौ से अधिक जेंटलमैन कैडेट पास आउट होकर थलसेना में अफसर बन चुके हैं I

सैनिक बहुल राज्यों उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान और पंजाब के साथ ही हिंदी भाषी प्रदेशों का भी फौज में दबदबा कायम है I पिछले कुछ सालों से पासिंग आउट परेड में हिस्सा लेने वाले कैडेटों की संख्या इसकी तस्वीर पेश करती है I आतंक प्रभावित जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर के राज्यों के युवाओं का आकर्षण भी सेना के प्रति निरंतर बढ़ रहा है I

जेएंडके के 28 जेंटलमैन कैडेट, मणिपुर के छह जेंटलमैन कैडेट और असम के पांच जेंटलमैन कैडेट पासआउट होकर सेना में अधिकारी बनेंगे. गुजरात के युवाओं का भी सेना के प्रति क्रेज बढ़ रहा है. शनिवार को गुजरात के पांच जेंटलमैन कैडेट पास आउट होंगे.

हां, इतना जरूर कि रक्षा मंत्री व इससे पहले गोवा के मुख्यमंत्री रहे मनोहर पर्रिकर के गृह राज्य से युवाओं का क्रेज सेना के प्रति बढ़ नहीं रहा है. पूरा लब्बोलुआब यह है कि आबादी के हिसाब से देश को युवा सैन्य अधिकारी देने में उत्तराखंड पहले पायदान पर है. प्रदेश की आबादी देश की कुल जनसंख्या का 0.84 प्रतिशत है, जबकि उत्तर प्रदेश का जनसंख्या प्रतिशत देश की आबादी का कुल 16.49 प्रतिशत, हरियाणा का 2.09 प्रतिशत और बिहार का 8.58 प्रतिशत है.

साभार – सहारा समय

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here