स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शान्ति भंग के इरादे से आये 5 घुसपैठियों को सेना ने मार गिराया…

0
4805

indian army 2
स्वतान्त्रत्र दिवास के पावन पर्व पर देश की शांति और सौहार्द पर हमला करने के इरादे से आये घुसपैठियों को जम्मू एवं कश्मीर के उरी सेक्टर में सीआरपीएफ जवानों के ने मार गिरया है, आतंकियों के साथ हुई इस मुठभेड़ में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कमांडेंट प्रमोद कुमार शहीद हो गए हैं, पुलिस ने यह जानकारी दी |

इस हमले में नौ सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, पुलिस अधिकारी ने कहा, “सुरक्षाबलों पर हमले के बाद आतंकवादी नौहट्टा में एक घर में घुस गए, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई.” उन्होंने कहा, “दो आतंकवादियों को मार गिराया गया है |”

आठ जुलाई को सेना के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद भड़के हिंसक विरोध-प्रदर्शनों के चलते, लगभग पांच सप्ताह से श्रीनगर के अधिकांश हिस्सों में कर्फ्यू लगा है |

स्वतंत्रता दिवस के विरोध में अलगाववादियों के बंद को ध्यान में रखते हुए स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सुरक्षा और पुख्ता कर दी गई थी, लाल चौक के नजदीक बख्शी स्टेडियम में मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राष्ट्रध्वज फहराया और उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया |

घाटी में हालिया हिंसा की घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य के तीनों क्षेत्रों लद्दाख, जम्मू व कश्मीर के समान विकास के लिए शांति जरूरी है. उन्होंने कहा, “मैं सुनिश्चित किया कि आतंकवाद-रोधी अभियानों के दौरान नागरिकों का इस्तेमाल मानव ढाल के तौर पर न किया जाए. मैं उदास हूं, क्योंकि कुछ अलगाववादी तत्व अपने कुत्सित हितों की पूर्ति के लिए आपके युवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं |”

मुख्यमंत्री ने कहा, “सन् 1990 से लेकर अब तक हजारों लोग मारे जा चुके हैं, लेकिन हमने क्या पाया? बीते 40 दिनों में हमने अपने युवाओं को उनके हवाले कर दिया, जिन्होंने अपने हितों के लिए उन्हें ढाल बनाया |”

उन्होंने कहा कि कश्मीरियों के घावों पर मरहम लगाने के लिए उनकी सरकार को समय की दरकार है. मुख्यमंत्री ने भारत व पाकिस्तान दोनों देशों से साथ आने और विभाजित कश्मीर के दोनों हिस्सों में शांति के लिए काम करने की अपील की. उन्होंने कहा, “झेलम नदी में इतना रक्त पहले से ही बह चुका है कि उसमें और रक्त के लिए जगह नहीं बची है.”

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY