दुनिया की सबसे शक्तिशाली बोफोर्स से भी बेहतर स्वदेशी ‘धनुष’ तोप सेना में शामिल

0
16952

Dhanush_155mm-artillery-gun-6

दिल्ली- दुनिया की सबसे शक्तिशाली तोपों में से एक बोफोर्स से भी बेहतर और उससे अधिक शक्तिशाली पूर्ण स्वदेशी तकनीक से निर्मित धनुष तोप को सेना में शामिल कर लिया गया है | प्राप्त जानकारी के आधार पर बताया जा रहा है कि जबलपुर गन कैरेज फैक्ट्री ने 155 एमएम और 38 किमी की मारक क्षमता वाली 3 धनुष तोपों को सेना को सौंप दिया है |

3 सालों के ट्रायल के बाद सेना में किया गया शामिल –
पूर्ण स्वदेशी तकनीक पर आधारित ‘धनुष’ तोप का सेना पिछले 3 सालों से लगातार परीक्षण कर रही थी उसे देश की अलग-अलग सीमाओं, अलग-अलग मौसम और वातावरण में ट्रायल के लिए रखा गया था | सेना ने धनुष को सियाचिन से लेकर पोखरण और असम के दुर्गम और सर्द इलाकों से लेकर गुजरात के कच्छ तक में हर जगह अलग-अलग मौसम में ट्रायल लेने के बाद सेना में शामिल किया है |

इसे भी पढ़ें – भारत ने विकसित कर ली है दुनिया की बेहतरीन तोप, ‘धनुष’

सेना के अनुसार यह एक शानदार तोप है और बोफोर्स तोप से बेहतर मारक क्षमता से लैस है | सबसे बड़ी बात है कि यह तोप शुद्ध भारतीय तकनीक से निर्मित पूर्ण स्वदेशी तोप है इससे युद्ध काल के दौरान यदि भारतीय सेना को इसके लिए कलपुर्जों की जरुरत पड़े या फिर इसके लिए गोले बनाने की जरुरत पड़े तो उसे किसी अन्य देश का मुंह नहीं ताकना पड़ेगा |

इसे भी पढ़ें – दुनिया की सबसे बेमिशाल तोपों में से एक धनुष अब छुडायेगी भारत के दुश्मनों के छक्के

सेना ने दिया 200 तोपों का एक साथ आर्डर –
भारतीय सेना ने लगातार 3 साल के ट्रायल के बाद 155 MM और 45 कैलीबर वाली 200 ऑटोमैटिक तोपों का आर्डर दे दिया है | यह तोपें भारतीय सेना को जल्द से जल्द मुहैया करवा दी जायेंगी | ज्ञात हो कि जब से देश के रक्षा मंत्रालय की कमान श्री मनोहर परिर्कर ने संभाली है तब से भारतीय सेना को लगातार और से और शक्तिशाली और मजबूत बनाने पर ही काम हो रहा है | परिर्कर ने पहले ही यह साफ़ कर दिया था कि इतने बड़े देश की रक्षा के लिए एक शक्तिशाली और इक्यूपमेंट के आधार पर बहुत ही आधुनिक सेना की जरुरत होती है और उसके लिए जो भी आवश्यक कदम है वे सभी उठाये जायेंगे |
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY